जी-7 शिखर सम्मेलन में जर्मन चांसलर ओलाफ शोल्ज ने पीएम मोदी का किया स्वागत

इलमाउ। जर्मनी के चांसलर ओलाफ शोल्ज ने सोमवार को जी-7 शिखर सम्मेलन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का स्वागत किया, जहां दुनिया के सात सबसे अमीर देशों के नेता यूक्रेन पर रूसी आक्रमण, खाद्य सुरक्षा और आतंकवाद से मुकाबला सहित विभिन्न महत्वपूर्ण वैिक मुद्दों पर चर्चा करेंगे।
शोल्ज ने दक्षिणी जर्मनी में शिखर सम्मेलन के सुरम्य आयोजन स्थल श्लॉस इलमाउ पहुंचने पर प्रधानमंत्री मोदी की अगवानी की। मोदी जी-7 के शिखर सम्मेलन में हिस्सा लेने के लिए रविवार से दो-दिवसीय यात्रा पर जर्मनी में हैं। विदेश मंत्री के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने ट्वीट किया, न्यायसंगत दुनिया की ओर बढ़ने के लिए मिलकर काम कर रहे हैं। शिखर सम्मेलन शुरू होने से पहले प्रधानमंत्री मोदी ने अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन और कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो से हाथ मिलाया। सभी नेता ग्रुप फोटो के लिए इकट्टा हुए थे।
सम्मेलन के दौरान मोदी ऊर्जा, खाद्य सुरक्षा, आतंकवाद से मुकाबला, पर्यावरण और लोकतंत्र जैसे मुद्दों पर समूह के नेताओं और सहयोगियों के साथ विचार-विमर्श करेंगे। उन्होंने कहा, मैं आज जी7 शिखर सम्मेलन में शिरकत करूंगा, जिसमें हम विभिन्न महत्वपूर्ण वैिक मुद्दों पर चर्चा करेंगे। जी7 कनाडा, फ्रांस, जर्मनी, इटली, जापान, ब्रिटेन और अमेरिका का अंतर-सरकारी राजनीतिक समूह है। दुनिया के सात सबसे अमीर देशों के नेताओं से यूक्रेन संकट पर ध्यान केंद्रित करने की उम्मीद है, जिसके चलते न केवल वैिक खाद्य व ऊर्जा संकट को बढ़ावा मिला है बल्कि इसके कारण भूराजनीतिक उथल-पुथल भी पैदा हुई है। जर्मनी जी-7 के अध्यक्ष के रूप में शिखर सम्मेलन की मेजबानी कर रहा है। जर्मनी ने भारत के अलावा अज्रेंटीना, इंडोनेशिया, सेनेगल और दक्षिण अफ्रीका को भी अतिथि के रूप में आमंत्रित किया है। (भाषा)