झारखंड के पूर्व खेल मंत्री टिर्की के आवास पर सीबीआई छापा

नई दिल्ली। केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) ने रांची में 2011 में हुए 34वें राष्ट्रीय खेलों के लिए करोड़ों रुपए के खेल उपकरण की खरीद में कथित अनियमितताओं के संबंध में भाजपा की अगुवाई वाली तत्कालीन अजरुन मुंडा सरकार में खेल मंत्री रहे बंधु टिर्की के आवास समेत 16 स्थानों पर बृहस्पतिवार को छापे मारे। अधिकारियों ने यह जानकारी दी।
सीबीआई ने टिर्की के अलावा जाने-माने वकील आरके आनंद के परिसरों में भी तलाशी ली। आनंद राष्ट्रीय राजधानी में राष्ट्रीय खेलों की आयोजन समिति के कार्यकारी अध्यक्ष थे। टिर्की अब कांग्रेस की झारखंड इकाई के कार्यकारी अध्यक्ष हैं। अधिकारियों ने बताया कि राज्य के पूर्व खेल निदेशक पीसी मिश्रा, झारखंड ओलंपिक कमेटी के तत्कालीन कोषाध्यक्ष मधुकांत पाठक और आयोजन सचिव एचएम हाशमी के परिसरों की भी तलाशी ली जा रही है। अधिकारियों ने बताया कि केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) के अभियान के तौर पर रांची में सात स्थानों और धनबाद में पांच स्थानों पर छापे मारे जा रहे हैं।
टिर्की को हाल में झारखंड की एक अदालत ने आय के ज्ञात स्रेतों से अधिक धन अर्जित करने का दोषी ठहराया था और उनकी विधानसभा सदस्यता रद्द कर दी थी। खेल उपकरणों की खरीद में कथित भ्रष्टाचार के मामले की जांच राज्य की भ्रष्टाचार-रोधी शाखा ने की और बाद में इस साल अप्रैल में झारखंड उच्च न्यायालय ने इसकी जांच सीबीआई को सौंप दी। मुख्य न्यायाधीश डॉ. रवि रंजन और न्यायमूर्ति सुजीत नारायण प्रसाद की खंडपीठ ने 2018 में सुशील कुमार सिंह की जनहित याचिका पर सुनवाई करते हुए यह आदेश पारित किया था।