ऋषभ पंत को टी20 फॉर्मेट में आंद्रे रसेल की टेकनीक में बल्लेबाजी करनी चाहिए : रवि शास्त्री

भारत के पूर्व कोच रवि शास्त्री का मानना है कि ऋषभ पंत को टी20 फॉर्मेट में आंद्रे रसेल की टेकनीक में बल्लेबाजी करनी चाहिए और एक बार लय में आने के बाद उसे नहीं बदलना चाहिए, जिससे वह अपनी टीम दिल्ली कैपिटल्स के लिए अधिक मैच जीत सके। बाएं हाथ के बल्लेबाज पंत ने इंडियन प्रीमियर लीग के मौजूदा सीजन में अब तक 11 मैचों में 152.71 के स्ट्राइक रेट से 281 रन बनाए हैं, लेकिन वह अपनी अच्छी शुरुआत को बड़े स्कोर में बदलने में नाकाम रहे हैं।

इस 24 वर्षीय विकेटकीपर बल्लेबाज ने अपने आक्रामक तेवरों की झलक तो दिखाई है, लेकिन वह अपनी टीम की जीत में अहम भूमिका नहीं निभा पाएं हैं। शास्त्री ने ‘ईएसपीएन क्रिकइन्फो’ पर कहा, ‘मुझे लगता है कि एक बार जब वह लय में आ जाता है तो उसे उसमें बदलाव नहीं करना चाहिए। उसे खेल के इस फॉर्मेट में रसेल की तरह में बल्लेबाजी करनी चाहिए।’

उन्होंने कहा, ‘आपकी निगाहें जम जाती हैं, आप अच्छी तरह से शॉट मार रहे हो तो ज्यादा मत सोचो। यह मायने नहीं रखता कि गेंदबाज कौन है, अगर आपको करारा शॉट लगाना है तो लगाओ। कौन जानता है कि ऐसा करने से आप लोगों की अपेक्षा से अधिक मैच जितवा सकते हो।’ शास्त्री का मानना है टी20 क्रिकेट के सबसे विस्फोटक बल्लेबाजों में से एक रसेल को उनका स्पष्ट रवैया अन्य बल्लेबाजों से अलग करता है। ऐसा रवैया पंत के लिए कारगर साबित होगा, जो आक्रामक पारी खेलने में सक्षम हैं।

उन्होंने कहा, ‘रसेल का रवैया अपने खेल को लेकर साफ है। जब वह लय में होता है तो उसे रोकना मुश्किल होता है। कोई उसे नहीं रोक सकता। उसके दिमाग में तब कोई नकारात्मक विचार नहीं आता है।’ शास्त्री ने कहा, ‘ऋषभ भी इस तरह से बल्लेबाजी करने में सक्षम है और मुझे लगता कि वह इस तरह से सोचता है क्योंकि आप टी20 क्रिकेट में उससे कुछ विशेष पारियां देखोगे।’ उन्होंने कहा, ‘वह अच्छी शुरुआत करता है और फिर इस अंदाज में आउट होता है जो उसे पसंद नहीं है। मेरा मानना है कि जब वह लय में होता है तो उसे उसमें बदलाव नहीं करना चाहिए।’