रूस ने विक्‍ट्री डे परेड में दुनिया को दिखाई महाविनाशक ताकत

9 मई का दिन रूस के लिए खासा महत्व रखता है। पूरी दुनिया की नजरें मॉस्को पर टिकी थी। रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन विक्ट्री डे परेड पर अपने संबोधन में क्या बोलेंगे। आज रूस के 77वें विक्ट्री डे परेड में एक से बढ़कर एक घातक तोप, टैंक, मिसाइलें और फाइटर जेट नजर आए। विक्ट्री डे मनाते हुए रूस ने ये मैसेज देने की कोशिश की है कि ये युद्ध अपने क्षेत्र को बचाने के लिए लड़ा गया, किसी और को हराने के लिए नहीं। विक्ट्री डे पर 11 हजार सैनिकों के साथ पुतिन ने रूस की ताकत का प्रदर्शन किया। सुखोई एयरक्राफ्ट जैसे घातक विमानों की झलक पेश करना पश्चिमी देशों को एक चेतावनी थी। पुतिन ने ये भी साफ कर दिया की रूस के पास गोले, बारूद, हथियार, टैंक, एयरक्राफ्ट की कोई कमी नहीं। इसके साथ ही पुतिन ने फिर कमस खाई की यूक्रेन में नाजीवाद के खात्मे तक जंग जारी रहेगी।

क्रिमलिन से निकलकर पुतिन रेड स्कावयर पहुंचे। अपने भाषण के दौरान पुतिन ने कहा कि नाटो हमारी सीमा पर देश के लिए खतरा पैदा करना चाहता था। यूक्रेन ने परमाणु हथियारों पर चर्चा शुरू कर दी थी। पुतिन ने कहा कि हमारा ये कर्तव्य है कि हर वो चीज करें जिससे दुनिया में युद्ध फिर से दोबारा न हो। पुतिन ने यूक्रेन की लड़ाई की तुलना सोवियत संघ के द्वितीय विश्व युद्ध से करते हुए कहा कि रूसी सेना यूक्रेन में अपनी मातृभूमि की रक्षा कर रही है। उन्‍होंने कहा कि रूस यूक्रेन में पूरी तरह से अस्‍वीकार्य खतरे का सामना कर रहा है। पुतिन ने प्रण किया है कि रूस हिटलर की तरह से यूक्रेन को भी जंग में पराजित कर देगा।

रूस के लिए ये परेड एक उत्सव सरीखा है। नाजी जर्मनी की हार पर कई देश वीईडे यानी विक्ट्री ऑन यूरोप डे के रूप में 7 मई को मनाते हैं। इस दिन नाजियों ने फ्रांस में समर्पण किया था। लेकिन सोवियत सेना 9 मई को बर्लिन सोवियत सेना के कब्जे में आ गया था। इसी दिन रूसी नेता मॉस्को के मशहूर रेड क्वायर पर अपने महान नेता व्लदिमीर लेनिन की कब्र के पास जमा होते हैं। इस दिन रूस में राष्ट्रीय अवकाश होती है।

मॉस्को विक्ट्री डे परेड के बीच ब्रिटेन के रक्षा मंत्री का रूसी राष्ट्रपति को लेकर बड़ा बयान सामने आया। ब्रिटेन के रक्षा मंत्री ने पुतिन की तुलना हिटलर से की। पुतिन का शासन नाजियों के कार्यों का आइना है। पुतिन और उनके जनरल यूक्रेन में वही कर रहे हैं जो आज से 70 साल पहले विश्व युद्ध के दौरान हो रहा था। जंग के बीच अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन की पत्नी यूक्रेन पहुंची और जेलेंस्की की पत्नी से मुलाकात की और कहा कि अमेरिका यूक्रेन के साथ मजबूती के साथ खड़ा है।