लोकसभा में गृह मंत्री अमित शाह ने बताया, जम्मू कश्मीर में कब होंगे चुनाव

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने आज जम्मू कश्मीर को लेकर एक बार फिर से संसद में बड़ा बयान दिया है। दरअसल, विपक्षी सांसदों की ओर से एक विषय पर चर्चा के दौरान जम्मू कश्मीर चुनाव को लेकर सवाल पूछा गया। इसी सवाल के जवाब में गृह मंत्री अमित शाह ने संसद को जम्मू कश्मीर में चुनाव को लेकर जानकारी दी। अमित शाह ने कहा कि कश्मीर के चुनाव के लिए भी रेफरेंस आई। मैं फिर कहता हूं कि पंचायत चुनाव हो चुके हैं, डिलिमिटेशन समाप्त होने की कगार पर है। डिलिमिटेशन के बाद सभी दलों से चर्चा करके हम तुरंत चुनाव कराएंगे। इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि मैंने पहले भी कई बार इस सदन में जम्मू कश्मीर में चुनाव को लेकर बातें कहीं हैं जिसे फिर से पढ़ा या सुना जा सकता है।

दरअसल, आज लोकसभा में दिल्ली नगर निगम संशोधन विधेयक 2022 पर चर्चा हो रही थी। इसी दौरान बहुजन समाज पार्टी के दानिश अली ने जम्मू कश्मीर चुनाव को लेकर सवाल पूछा। दानिश अली ने कहा कि जब दिल्ली नगर निगम को तीन हिस्सों में बांटा गया था तो इस बाबत विधेयक दिल्ली विधानसभा में पारत हुआ था। उन्होंने कहा कि लेकिन अब यह विधेयक संसद में लाया गया है जिससे साफ होता है कि यह सरकार राज्यों के अधिकारों पर हमले करती रहती है। उन्होंने दावा किया कि जैसे जम्मू-कश्मीर में परिसीमन का बहाना बनाकर विधानसभा चुनाव को रोका जा रहा है उसी तरह केंद्र सरकार दिल्ली में परिसीमन के बहाने नगर निगम चुनाव टालना चाहती है। अली ने सवाल किया कि हाल ही में चार राज्यों में जीतकर आई भाजपा दिल्ली में नगर निगम चुनाव कराने से डर क्यों रही है? वह चुनाव से क्यों भाग रही है?

भाजपा पर किए गए हमले के जवाब में अमित शाह ने कहा कि हम सभी जगह चुनाव लड़ना चाहते हैं और अपनी विचारधारा, कार्यक्रमों, नेतृत्व की लोकप्रियता और सरकार के प्रदर्शन के आधार पर जीतना चाहते हैं। उन्होंने कहा कि सभी दलों को अपने कार्यक्रमों, विचारधारा, नेतृत्व की लोकप्रियता के आधार पर चुनाव लड़ने का अधिकार है, यह लोकतंत्र की खूबसूरती है और इसमें किसी को कोई आपत्ति नहीं हो सकती। परिवार के आधार पर पार्टी चलाने वाले और अपने दलों के भीतर चुनाव नहीं कराने वाले भाजपा को लोकतंत्र की सीख नहीं दें।