चुनावी हार के बाद कांग्रेस का बड़ा एक्शन, पांचों राज्यों के प्रदेश अध्यक्षों से सोनिया ने मांगा इस्तीफा

उत्तर प्रदेश सहित पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव संपन्न हो चुके हैं। चार राज्यों में भाजपा ने जहां अपनी सत्ता बरकरार रखी, वहीं पंजाब में बड़ा परिवर्तन हुआ। पंजाब में कांग्रेस की करारी हार हुई और आम आदमी पार्टी ने एकतरफा जीत हासिल की। मणिपुर, उत्तर प्रदेश, गोवा और उत्तराखंड में भी कांग्रेस का प्रदर्शन बेहद खराब रहा। इन सबके बीच कांग्रेस ने बड़ा एक्शन लिया है। पार्टी के मुताबिक के इन पांच राज्यों के प्रदेश अध्यक्ष से इस्तीफा मांगा गया है। ऐसे में उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, मणिपुर, पंजाब और गोवा के कांग्रेस प्रदेश अध्यक्षों को अपना इस्तीफा देना होगा। खबर के मुताबिक के उत्तराखंड के प्रदेश अध्यक्ष गणेश गोदियाल ने अपना इस्तीफा पेश कर दिया है।

गणेश गोदियाल ने लिखा कि प्रदेश में हुए विधानसभा चुनाव में पार्टी की हार की नैतिक जिम्मेदारी लेते हुए मैंने अपना इस्तीफा सौंप दिया है। मैं परिणाम के दिन ही अपना इस्तीफा देना चाहता था पर हाईकमान के आदेश की प्रतीक्षा में रुका था। कांग्रेस के इस आदेश के बाद पंजाब प्रदेश के अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू को भी इस्तीफा देना होगा। सिद्धू अमृतसर पूर्व से चुनावी मैदान में थे और वह खुद हार गए। उत्तर प्रदेश के प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू भी अपना इस्तीफा देंगे। इसके अलावा मणिपुर और गोवा के भी प्रदेश अध्यक्ष को इस्तीफा देने के लिए कहा है। आपको बता दें कि पांच राज्यों में मिली करारी हार के बाद कांग्रेस में खुद तकरार है। यही कारण है कि कांग्रेस की ओर से बड़ा एक्शन लिया गया है।
आज प्रियंका गांधी ने भी उत्तर प्रदेश कांग्रेस अधिकारियों के साथ एक बड़ी बैठक की थी। आपको बता दें कि पांच राज्यों में मिली करारी शिकस्त के बाद सीडब्ल्यूसी की बैठक बुलाई गई थी। इस बैठक में नए अध्यक्ष को लेकर भी चर्चा हुई और साथ ही साथ आगे की रणनीति पर भी मंथन किया गया। खबर के मुताबिक के करीब 5 घंटे चली इस बैठक में सोनिया गांधी ने साफ तौर पर कह दिया कि अगर पार्टी को आगे बढ़ने से रोकने के लिए गांधी परिवार जिम्मेदार है तो वह त्यागपत्र देने को तैयार है। हालांकि सीडब्ल्यूसी की बैठक में इसे खारिज कर दिया गया।