यूक्रेन का विनाश करने के मूड में रूस? तैनात की S-400 Missiles, प्रशिक्षण अभ्यास किया शुरू

युद्ध के दौरा जब किसी देश की राजधानी पर किसी दूसरे देश का झंडा फेहरा दिया जाए तो यह माना जाता है कि मौजूदा देश ने हथियार डाल दिए हैं। रूस और यूक्रेन के बीच छिड़ी जंग में रूस किसी भी वक्त यूक्रेन की राजधानी कीव को अपने कब्जे में कर सकता है। यूक्रेन के दूसरे शहरों में रूस से भारी तबाही मचाई है। रूस लगातार सुबह से लेकर रात कर हमले कर रहा है। माना जा रहा है कि रूस अब यूक्रेन को लेकर और भी ज्यादा हमलावर मूड में आ गया है। जमीनी सैनिक और हवाई हमलों के बाद रूस ने अब एस-400 मिसाइल की तैनाती भी कर दी है।

रूस-यूक्रेन संकट में ताजा अपडेट के मुताबिक रूस ने एस-400 मिसाइल अभ्यासों के लिए प्रशिक्षण अभ्यास शुरू कर दिया है। रूस यूक्रेन के विद्रोही क्षेत्र मारियुपोल शहर पर हमले की योजना बना रहा है। अब तक यूक्रेन पर रूस के आक्रमण के 8वें दिन खेरसॉन शहर रूसी नियंत्रण में आ गया। पूरे शहर में रूसी सैनिकों का दबदबा है। यूक्रेन की रक्षा कर रहे सैनिकों ने हथियार डाल दिए हैं। अब रूसी सेना खारकीव में तबाही मचा रही है। अपडेट के अनुसार रूस ने खारकीव पर तेजी से बमबारी की हैं। यह बमबारी स्कूल, अस्पताल, सरकारी इमारत, पुलिस स्टेशन सहित आम लोगों के घरों पर भी की गयी है।य युद्ध में तबाही का ऐसा मंजर है कि बैचेन करने वाला है। लोग अपने घरों को छोड़कर भाग गये हैं। पड़ोसी देशों की सीमाओं पर खड़े हैं। यूक्रेन की स्थिति काफी दयनीय है। यूक्रेन हथियार डालने के मूड में नहीं हैं और रशिया तहाबी कम करने के मूड में दिखायी नहीं पड़ रहा है। अब एस-400 मिसाइल की एंट्री के बाद माना जा रहा है बड़े स्तर पर रूस ने यूक्रेन पर घात लगाया है।

बेलारूसी राष्ट्रपति अलेक्जेंडर लुकाशेंको रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के प्रतिबद्ध सहयोगी बने हुए हैं। लेकिन लुकाशेंको यह भी समझते हैं कि नाटो के साथ किसी भी युद्ध का मतलब होगा कि उनका देश दुश्मन के विमानों के हमलों का जल्द सामना कर सकता है। मंगलवार को बेलारूसी सुरक्षा परिषद की एक बैठक में, लुकाशेंको ने कथित तौर पर रूसी नेतृत्व से मिन्स्क को बचाने के लिए अतिरिक्त एस-400 एंटी-एयरक्राफ्ट मिसाइल सिस्टम देने का अनुरोध किया।

रूसी राज्य समाचार एजेंसी TASS ने बताया कि लुकाशेंको ने राष्ट्रपति के प्रेस कार्यालय के पास शीर्ष आधिकारिक टेलीग्राम चैनल के पूल द्वारा जारी वीडियो फुटेज में कहा “हमारे पास पर्याप्त कर्मी होंगे लेकिन हार्डवेयर पर्याप्त नहीं होगा। मैंने [रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर] पुतिन की ओर रुख किया ताकि गोमेल क्षेत्र में स्थित एस -400 सिस्टम के अलावा, अतिरिक्त एस -400 को मिन्स्क के थोड़ा पश्चिम के क्षेत्र में आपूर्ति की जा सके।

रूसी सेना ने पहले संयुक्त रूसी-बेलारूसी संघ संकल्प युद्ध प्रशिक्षण अभ्यास में उपयोग के लिए बेलारूस में दो एस -400 “ट्रायम्फ” मिसाइल सिस्टम तैनात किए थे। अभ्यास के बाद वे मिसाइल सिस्टम बेलारूस में बने रहे क्योंकि रूस ने यूक्रेन पर अपना आक्रमण शुरू किया था। रूस ने पहले यूक्रेन पर आक्रमण करने के लिए संयुक्त सैन्य अभ्यास के लिए बेलारूस में दो एस -400 मिसाइल रक्षा प्रणालियों को तैनात किया था।

एस-400 “ट्रायम्फ” एंटी-एयरक्राफ्ट मिसाइल सिस्टम के सैनिकों ने रूस के नोवोसिबिर्स्क क्षेत्र में अभ्यास के ढांचे के भीतर एक नकली दुश्मन का पता लगाने और नष्ट करने के लिए युद्ध प्रशिक्षण कार्यों का अभ्यास करना शुरू कर दिया है क्योंकि मॉस्को ने यूक्रेन पर हमले तेज कर दिए हैं।