चन्नी के खत का अमित शाह ने दिया जवाब, AAP को लेकर कुमार विश्वास के दावे की जांच कराएगी केंद्र सरकार

आम आदमी पार्टी के संयोजक और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को लेकर कुमार विश्वास के दावों के बाद देश की राजनीति गर्म है। इन सब के बीच आज पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी ने केंद्र सरकार को पत्र लिखकर पूरे मामले की जांच कराने का अनुरोध किया था। अपने पत्र में चन्नी ने लिखा था कि मैं पंजाब के सीएम के रूप में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से अनुरोध करता हूं कि कुमार विश्वास ने जो कुछ कहा है उस मामले की निष्पक्ष जांच कराई जाए। चन्नी ने कहा था कि राजनीति एक तरफ है, पंजाब के लोगों ने अलगाववाद से लड़ते हुए भारी कीमत चुकाई है। पीएम को हर पंजाबी की चिंता दूर करने की जरूरत है।

इसी को लेकर अब केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने भी पंजाब के मुख्यमंत्री को खत लिखा है। अमित शाह ने अपने पत्र में लिखा कि आपके पत्र के अनुसार एक राजनैतिक पार्टी का देश विरोधी, अलगाववादी एवं प्रतिबंधित संस्था से सम्र्पक रखना और चुनाव में सहयोग प्राप्त करना देश की एकता एवं अखण्डता के दृष्टिकोण से अत्यंत गंभीर है। इस प्रकार के तत्त्वों का एजेंडा देश के दुश्मनों के एजेंडे से अलग नहीं है। यह अत्यंत निन्दनीय है कि सत्ता पाने के लिए ऐसे लोग अलगाववादियों से हाथ मिलाने से लेकर पंजाब और देश को तोड़ने की सीमा तक जा सकते हैं। इसके साथ ही अमित शाह ने आगे लिखा कि इस विषय पर मैं आपको आश्वस्त करता हूँ कि देश की एकता एवं अखण्डता से खिलवाड़ करने की इजाजत किसी को नहीं दी जायेगी। भारत सरकार ने इसे अत्यन्त गंभीरता से लिया है और में स्वयं इस मामले को गहराई से दिखवाऊंगा।
इसे भी पढ़ें: कुमार विश्वास का केजरीवाल को चुनौती, ‘एक बार कह के दिखाओ कि मैं खालिस्तान के खिलाफ लडूंगा’
आपको बता दें कि हाल में ही आम आदमी पार्टी के संस्थापक सदस्य रहे कुमार विश्वास ने अरविंद केजरीवाल पर आरोप लगाया था कि उन्होंने कहा था कि 1 दिन या तो वह पंजाब के मुख्यमंत्री बनेंगे या एक स्वतंत्र राष्ट्र (खालिस्तान) के प्रधानमंत्री बनेंगे। खबर यह भी है कि गृह मंत्रालय कुमार विश्वास की सुरक्षा में वृद्धि की भी पेशकश कर सकता है। कुमार विश्वास के दावों पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी अरविंद केजरीवाल पर निशाना साध चुके हैं। मोदी ने कहा था कि अरविंद केजरीवाल और उनकी पार्टी के पास भारत को तोड़ने और सत्ता में आने के लिए अलगाववादियों से हाथ मिलाने का एजेंडा तैयार है।