पैरासिटामोल दवाई की पाकिस्तान में भारी किल्लत, कोरोना और डेंगू ने बरपाया कहर

पाकिस्तान में इस समय पैरासिटामोल कोविड -19 रोगियों को दिया जा रहा है और इसके अलावा इस दवाई का इस्तेमाल बुखार और सिर दर्द के दौरान किया जाता है। भारी कमी के बाद पाकिस्तान के ड्रग रेगुलेटरी अथॉरिटी ने कम से कम 15 दवा कंपनियों को कारण बताओ नोटिस जारी किया है।

कोरोना महामारी के कहर के बीच हमारे पड़ोसी देश पाकिस्तान में पैरासिटामोल दवाई की भारी किल्लत हो गई है। एक मीडिया रिपोर्ट के मुतबिक, पाकिस्तान में पैरासिटामोल की किल्लत इतनी ज्यादा हो गई है कि अब यह काला बाजार में बिक रहा है। पाकिस्तान के ड्रग रेगुलेटरी अथॉरिटी के एक अधिकारी ने देश में डेंगू के मामलों की संख्या बढ़ाने के लिए दवाओं की कमी को जिम्मेदार ठहराया है। बता दें कि, पाकिस्तान में इस समय पैरासिटामोल कोविड -19 रोगियों को दिया जा रहा है और इसके अलावा इस दवाई का इस्तेमाल बुखार और सिर दर्द के दौरान किया जाता है। भारी कमी के बाद पाकिस्तान के ड्रग रेगुलेटरी अथॉरिटी ने कम से कम 15 दवा कंपनियों को लाइसेंस होने के बावजूद पैरासिटामोल बनाने में विफल रहने के लिए कारण बताओ नोटिस जारी किया है।

जानकारी के लिए बता दें कि, पाकिस्तान में सक्रिय कोविड-19 संक्रमितों की संख्या एक लाख को पार कर गई है। साल 2020 में, पैरासिटामोल सहित कुछ जेनेरिक दवाओं की कमी का जोखिम दुनिया भर में बढ़ गया जब भारत ने कोविड -19 ओवरडोज के कारण कुछ दवाओं के निर्यात को प्रतिबंधित कर दिया था। भारत जेनेरिक दवाओं का दुनिया का सबसे बड़ा आपूर्तिकर्ता है।