पत्नी से सामूहिक दुष्कर्म करने वाले को पति ने फिल्मी अंदाज में मौत के घाट उतारा

भोपाल। मध्य प्रदेश के रतलाम जिले में एक दिल दहला देने वाला मामला सामने आया है। जहां पति ने अपनी पत्नी से सामूहिक दुष्कर्म करने वाले को फिल्मी अंदाज में मौत के घाट उतारा। ऐसे में फिल्मी अंदाज में हुई इस हत्या की वारदात ने सभी लोगों को चौंका दिया।

बताया जा रहा है कि ये मामला रतलाम जिले के रट्टागड़खेड़ा गांव का हैं। पुलिस अधिकारी के मुताबिक जहां रेप के आरोपी लाल सिंह के खेत में लगे मोटर के स्टार्टर को आरोपी पति ने डायनामाइट से जोड़ दिया था। जैसे ही लाल सिंह ने स्टार्टर का बटन दबाया विस्फोट हो गया और लाल सिंह के चिथड़े उड़ गए।

दरअसल युवक ने इससे पहले भी अपनी पत्नी के साथ हुई बदसलूकी का बदला लेने के लिए उसने कोशिश की थी। लेकिन तब आरोपी बच गया था। लेकिन उसने 6 महीने के इंतजार के बाद फिर हमला कर अपना बदला लिया। इस मामले का खुलासा होने के बाद पुलिस ने पति को गिरफ्तार कर लिया है। जबकि गैंगरेप के अन्य 2 आरोपियों को भी गिरफ्तार कर लिया गया है।

पुलिस को शुरुआती जांच में ही शक था कि यह हत्या है। फिर पता चला कि गांव का ही शख्स घटना के दिन से ही परिवार के साथ लापता था। पुलिस द्वारा पूछताछ करने पर किसान टूट गया और पूरी वारदात के बारे में खुलासा किया। इस दौरान आरोपी ने कहा कि उसने घटना को अंजाम देने के लिए लाल सिंह के खेत में लगी ट्यूबवेल में विस्फोट करके घटना को अंजाम दिया।

आपको बता दें कि इस सनसनीखेज वारदात की कहानी पिछले एक साल पहले शुरू हुई थी। पुलिस ने जानकारी दी कि आरोपी लाल सिंह की हत्या में गिरफ्तार सुरेश ने बताया कि गांव के दबंग भंवरलाल पाटीदार, लालसिंह खतीजा और दिनेश दोस्त थे। जहां पर इन तीनों ने गांव के ही सुरेश लोढ़ा की पत्नी के साथ गैंगरेप किया। इस दौरान सुरेश ने मौके पर पहुंचकर पत्नी को बचाने की कोशिश भी की।

इस मुद्दे को लेकर रतलाम एसपी ने कहा कि बिलपांक थाना पुलिस के साथ साइबर टीम और FSL टीम को जांच में लगाया गया। इस घटना वाले दिन ही पुलिस को यह जानकारी मिली थी कि गांव के भंवरलाल के साथ भी इस तरह की घटना हुई थी। इससे यह बात साफ हो गई कि यह हादसा नहीं हत्या है।

ये भी जानकारी मिली है कि पुलिस ने आरोपी के बारे में सुराग देने पर 10 हजार का इनाम घोषित किया गया था। जिसके बाद ये पता चला था कि सुरेश लोढ़ा परिवार के साथ गायब है। जिसके बाद ये सामने आया कि सुरेश लोढ़ा के सांवलिया जी दर्शन करने गया है। जिसके बाद पुलिस की टीम ने उसे 6 जनवरी को मंदसौर के पास से पकड़ा था। पुलिस पूछताछ में आरोपी ने इस सनसनीखेज वारदात को अंजाम देना कबूल किया।

आपको बता दें कि ग्रामीण इलाकों में कुएं की खुदाई के दौरान डेटोनेटर का इस्तेमाल किया जाता है। वहीं आरोपी सुरेश लोढ़ा भी डेटोनेटर का उपयोग करना जानता था। गांव में खेती के लिए बिजली देने का अलग ही फीडर होता है। ऐसे में जब सुबह लाइट रहती है तो रात में नहीं है। इस बात की जानकारी सुरेश को थी। जहां उसने लालसिंह खतीजा की रैकी की थी। उसे पता था कि वो भी ट्यूबवेल का स्टार्टर उठाता था। इसके चलते सुरेश ने रात को बिजली जाने पर डेटोनेटर सेट कर दिया था।