दिल्ली में COVID-19 मामले तेजी से बढ़ रहे हैं, लेकिन घबराने की जरूरत नहीं : अरविंद केजरीवाल

नई दिल्ली। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने शुक्रवार को कहा कि राजधानी में कोविड-19 के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं, लेकिन चिंता की कोई बात नहीं है। कोरोना को लेकर हमारी सारी व्यवस्थाएं दुरुस्त हैं। उन्होंने लोगों से जिम्मेदार बनने के लिए कहा और उन्हें आश्वासन दिया कि सरकार ने सभी तैयारियां की हैं और अस्पताल में पर्याप्त बेड हैं।

केजरीवाल ने शुक्रवार को कहा कि कोरोना के मामले काफी तेजी से बढ़ रहे हैं। इसमें कोई दो-राय नहीं है। हम सब लोग जानते हैं कि ओमिक्रॉन का संक्रमण बहुत ज्यादा है। यह बहुत ही तेजी से फैलने वाला वायरस है। दिल्ली में इस समय संक्रमण दर भी लगभ 29 फीसदी के पार पहुंच गई है, लेकिन चिंता की कोई बात नहीं है। अस्पतालों में भर्ती होने वाले मरीजों की संख्या बहुत ज्यादा कम है और मौत भी बहुत कम हैं, इसलिए लोगों को चिंता करने और घबराने की कोई जरूरत नहीं है।

उन्होंने कहा कि दिल्ली सरकार की तरफ से सारी व्यवस्थाएं दुरुस्त हैं। अस्पतालों में बेड्स की कोई कमी नहीं है। आईसीयू बेडों की भी कोई कमी नहीं है। हमें घबराना नहीं है, लेकिन जिम्मेदारी के साथ व्यवहार करना है। हम कोरोना की स्थिति पर नजर रखे हुए हैं। अगर जरूरत पड़ेगी तभी पाबंदियों को बढ़ाएंगे, लेकिन अगर कोरोना के मामले कम होने लगे, तो पाबंदियों को घटाएंगे।इससे पहले दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने कहा कि राजधानी में शुक्रवार को कोविड-19 के 25 हजार के करीब नए मामले सामने आ सकते हैं। वहीं, कोविड-19 के कारण जान गंवाने वाले 75 प्रतिशत मरीज ऐसे थे, जिन्होंने टीके नहीं लगवाए थे। जैन ने पत्रकारों से कहा कि दिल्ली में आज 25 हजार से कम नए मामले सामने आने का अनुमान है। आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार, नौ जनवरी से 12 जनवरी के बीच जिन 97 लोगों की मौत संक्रमण से हुई, उनमें से 70 लोगों का टीकाकरण नहीं हुआ था, जबकि 19 ने पहली खुराक ही ली थी। वहीं, आठ का पूर्ण टीकाकरण हो चुका था। जैन ने कहा कि कोविड-19 के कारण जान गंवाने वाले 75 प्रतिशत मरीज ऐसे थे, जिन्होंने टीके नहीं लगवाए थे। टीकाकरण करना आवश्यक है। ऐसे भी कई मरीज थे, जो संक्रमण की चपेट में आने से पहले किसी अन्य गंभीर बीमारी से पीड़ित थे। मंत्री ने बताया कि अस्पतालों में संक्रमितों के लिए आरक्षित 13000 से अधिक बेड खाली हैं।