इंदिरापुरम : स्टोरेंट की आड़ में चल रहा था हुक्का बार, संचालक समेत 13 गिरफ्तार

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। इंदिरापुरम स्थित आदित्य माल के सामने किंग कैफे के नाम से चल रहे रेस्टोरेंट पर पुलिस कप्तान पवन कुमार ने सोमवार रात जिले के तीनों एडिशनल एसपी के साथ मिलकर छापेमारी की। इस दौरान पुलिस ने आबकारी विभाग की टीम को भी साथ ले लिया। पुलिस को रेस्टोरेंट की आड़ में हुक्का बार चलता मिला। वहां रंग बिरंगी लाइट्स में युवा नशे में झूमते मिले। जिसके बाद पुलिस ने रेस्टोरेंट की आड़ में नशा परोसने वाले हुक्का बार संचालक समेत 13 लोगों को मौके से गिरफ्तार किया है। साथ ही मौके से अंग्रेजी शराब व बीयर, विभिन्न फ्लेवर के तम्बाकू, कफ सिरप की खाली बोतलें और नशे की अन्य सामग्री बरामद की है। पुलिस का कहना है कि आरोपियों के खिलाफ महामारी अधिनियम एक्ट समेत अन्य कानूनी धाराओं में केस दर्ज कर आरोपियों को जेल भेज दिया गया है।

एसएसपी पवन कुमार ने बताया कि सोमवार देर रात को वह जिले के तीनों एडिशनल एसपी के साथ क्षेत्र में रात्रि भ्रमण पर थे। इसी दौरान एक महिला ने इंदिरापुरम थानाक्षेत्र स्थित आदित्य माल के सामने हुक्का बार चलने के बारे में सूचना दी। सूचना प्राप्त होते ही पुलिस ने आबकारी विभाग की टीम को बुलाया और फिर बताए गए किंग कैफे नामक रेस्टोरेंट पर छापेमारी की। एसएसपी ने बताया कि छापेमारी के दौरान रेस्टोरेंट के नाम पर हुक्का बार चलता पाया गया। जिसके बाद पुलिस ने हुक्का बार संचालक विवेक निवासी मयूर विहार दिल्ली समेत 13 लोगों को मौके से गिरफ्तार कर लिया। पकड़े गए अन्य आरोपियों में सागर निवासी करहैड़ा मोहननगर, शाहदरा दिल्ली निवासी रोहित, टीलामोड़ निवासी उमर कुरैशी, मयूर विहार फेस.2 दिल्ली निवासी काव्य कपूर, शाहदरा दिल्ली निवासी अनूप कालरा, भौपुरा साहिबाबाद निवासी विशाल, भोवापुर इंदिरापुरम निवासी सूरज, नोएडा निवासी विजय, विनोद, आयुष व निखिल और दिल्ली कैंट निवासी मनोज शामिल हैं। जबकि मयूर विहार फेस.1 दिल्ली निवासी प्रदीप कनवाल मौके से भागने में कामयाब हो गया।

आबकारी इंस्पेक्टर आशीष पाण्डेय ने बताया कि कैफे संचालक द्वारा प्रति दिन का लीकर लाइसेंस लिया जाता था। लेकिन मौके से लाइसेंस की क्षमता से अधिक शराब और बीयर की बोतलें मिली हैं। इसके अलावा हुक्का बार में शराब का स्टोक भी क्षमता से अधिक पाया गया। आरोपी संचालक द्वारा लोगों को अवैध रूप से शराब और नशा परोसा जा रहा था। जिसके चलते आरोपियों पर 60 अधिनियम एक्ट और सिगरेट एवं अन्य तम्बाकू उत्पाद अधिनियम के तहत कार्रवाई की गई है।

एसएसपी पवन कुमार की सूचना पर पुलिस और आबकारी विभाग की टीम ने अवैध रूप से चल रहे इस हुक्का बार पर छापेमारी की। इससे पहले न तो इंदिरापुरम पुलिस और न ही आबकारी विभाग की टीम को उसके बारे में भनक लग सकी। जबकि यह हुक्का बार बीते करीब 4 महीने से चल रहा था। इसे रोजाना के हिसाब से आबकारी विभाग द्वारा लीकर का लाइसेंस जारी करने की बात भी सामने आई है। इसके बावजूद आबकारी विभाग ने कभी उक्त रेस्टोरेंट में आकर जांच करने की जरुरत नहीं समझी कि यहां प्रतिदिन का लीकर लाइसेंस लेकर आखिर होता क्या है? वहीं, सूत्रों का कहना है कि आरोपी आबकारी विभाग से मिलीभगत कर इस हुक्का बार को चला रहे थे।