वाराणसी के विकास के लिए पीएम मोदी ने किया 22 परियोजनाओं का शिलान्यास और लोकार्पण, जानिए इसका महत्व

वाराणसी। एक बार फिर से प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी में खुशियों की लहर ला दी है। आज 23 दिसंबर को पीएम ने लगभग 2100 करोड़ की सौगात नगरवासियों को प्रदान की है। प्रधानमंत्री इस कार्यक्रम के दौरान लगभग ढाई से तीन घंटा वाराणसी में उपस्थित रहे। इसके पूर्व ही परियोजनाओं के लोकार्पण, शिलान्यास समेत अन्य कार्यक्रम को भी फाइनल कर दिया गया था। अब इन योजनाओं से वाराणसी में कई नागरिक सुविधाएं जनता को प्राप्त हो सकेंगी। इसके साथ ही पीएम मोदी ने करखियांव में जनसभा को संबोधित करने से पहले करीब 475 करोड़ की बनास काशी संकुल परियोजना की नींव रखी। इस अमूल प्लांट की नींव रखने से किसानों संग क्षेत्र का विकास एवं रोजगार मिलना संभव हो गया है।

इसी क्रम में उन्होंने 1.70 लाख दुग्ध उत्पादकों को 35.2 करोड़ रुपये का बोनस आनलाइन ट्रांसफर किया। इसके साथ ही आनलाइन अन्य परियोजनाओं का लोकार्पण और शिलान्यास किया। साथ ही मंच पर अपने हाथ से वाराणसी के छह परिवारों को घरौनी का भी प्रमाण पत्र प्रदान किया। इसमें वाराणसी के तीनों तहसील यानी सदर, पिंडरा व राजातालाब के दो-दो परिवार शामिल रहे। इसके बाद उत्‍तर प्रदेश के 20 लाख परिवारों को आनलाइन घरौनी यानी खतौनी भी जारी किया गया। इसमें 35 हजार परिवार वाराणसी जिले के शामिल रहे। इसके अलावा प्रधानमंत्री ने लगभग 870.16 करोड़ की लागत से निर्मित 22 परियोजनाओं को जनता को सौंपा।इसके साथ ही 1225.51 करोड़ की परियोजनाओं की नींव भी रखी। इस तरह काशी को प्रधानमंत्री 2095.67 करोड़ की सौगात दी है। ये परियोजनाएं काशी के विकास को और भी गति देंगी। इसके साथ पीएम मोदी ने इन सभी परियोजनाओं का शिलान्यास किया, जिसमें बनास काशी संकुल (अमूल प्‍लांट) -करखियांव – 475 करोड़ की नींव रखी, इससे जिले के किसानों को भी लाभ मिलेगा। मोहनसराय दीनदयाल चकिया मार्ग (लंबाई 11 किमी) के मध्य सर्विस लेन के साथ सिक्स लेन कार्य – 412.53 करोड़ से निर्माण। वाराणसी -भदोही-गोपीगंज मार्ग (एसएच-87) भी फोर लेन ( 8.6 किलोमीटर) मार्ग का चौड़ीकरण व सुदृढ़ीकरण- 269 .10 करोड़ से निर्माण। दुग्ध उत्पादक सहकारी संघ लिमिटेड संयत्र, रामनगर बायो गैस पावर उत्पादन केंद्र -19 करोड़ रुपये से निर्माण, आदि शामिल है।

पीएम ने 50 शैय्या युक्त एकीकृत आयुष चिकित्सालय ग्राम भदरासी विकास खंड आराजीलाइन- 6.41 करोड़ रुपये से निर्माण। कालभैरव वार्ड का पुनर्विकास कार्य -16.24 करोड़ (स्मार्ट सिटी) परियोजना से निर्माण। राजमंदिर वार्ड का पुनर्विकास कार्य-13.53 करोड़ (स्मार्ट सिटी) परियोजना से निर्माण। दशाश्वमेध वार्ड का पुनर्विकास कार्य- 16.22 करोड़ (स्मार्ट सिटी) परियोजना से निर्माण। जंगमबाड़ी वार्ड का पुनर्विकास कार्य-12.65 करोड़ (स्मार्ट सिटी) परियोजना से निर्माण। गढ़वासी टोला का पुनर्विकास कार्य-7.90 करोड़ (स्मार्ट सिटी) परियोजना से निर्माण। नदेसर तालाब का विकास एवं सुंदरीकरण -3.02 करोड़ (स्मार्ट सिटी) परियोजना से निर्माण। सोनभद्र तालाब का विकास एवं सुंदरीकरण -1.38 करोड़ (स्मार्ट सिटी) परियोजना से निर्माण। शहर में 720 स्थल पर उन्नत सर्विलांस कैमरा-128 .04 करोड़ (स्मार्ट सिटी) परियोजना से निर्माण। बेनियाबाग पार्क में भूमिगत पार्किंग व पार्क का विकास कार्य-90.42 करोड़ (स्मार्ट सिटी) परियोजना से निर्माण।

सड़क व चौराहों का सुधार कार्य (फेज-1 मैदागिन से गोदौलिया, गोदौलिया से सोनारपुरा व सोनारपुरा से अस्सी व सोनारपुरा से भेलूपुर व गोदौलिया से गिरजाघर) -25 करोड़ (स्मार्ट सिटी) परियोजना से निर्माण। 50 एमएलडी क्षमता की एसटीपी रमना का निर्माण – 161.31 करोड़ (गंगा प्रदूषण नियंत्रण इकाई) से प्रदूषण पर नियंत्रण करने का प्रयास होगा। बीएचयू में डाक्टर हास्टल, नर्स हास्टल व धर्मशाला का निर्माण-130 करोड़ (केंद्रीय लोक निर्माण विभाग) से मिलेगी सहूलियत। बीएचयू में अंतरराष्ट्रीय शिक्षक शिक्षा केंद्र का निर्माण – 107.36 करोड़ (केंद्रीय लोक निर्माण विभाग) से मिलेगी सहूलियत। बीएचयू में 80 आवासीय फ्लैट-पैकेज-1 तहत जोधपुर कालोनी में निर्मित-60.63 करोड़ (केंद्रीय लोक निर्माण विभाग) से मिलेगी आवासीय सहूलियत। बीएचयू में 80 आवासीय फ्लैट-पैकेज-2 तहत जोधपुर कालोनी में निर्मित-60.63 करोड़ (केंद्रीय लोक निर्माण विभाग ने किया है निर्माण) राजकीय आइटीआइ करौंदी में 13 आवासों का निर्माण-2.75 करोड़ (सीएंडडीएस) से निर्माण। गुरु रविदास की जन्म स्थली, सीरगोवर्धन के पर्यटन विकास फेज-1 के तहत सामुदायिक हाल व शौचालय का निर्माण-5.35 करोड़ (राजकीय निर्माण निगम लिमिटेड भदोही इकाई द्वारा)। अंतरराष्ट्रीय चावल अनुसंधान संस्थान ईरी में स्पीड ब्रीडिंग फैसिलिटी का निर्माण -3.55 करोड़ (ईरी के सवीर बायोटेक लिमिटेड) से चावल अनुसंधान में मिलेगी सहूलियत। केंद्रीय उच्च तिब्बती शिक्षण संस्थान सारनाथ में शिक्षक प्रशिक्षण भवन का निर्माण-7.10 करोड़ (नेशनल बिल्डिंग कंस्ट्रक्शन कारपोरेशन) से मिलेगी शिक्षण में सहूलियत। तहसील पिंडरा में दो मंजिला अधिवक्ता भवन का निर्माण -1.64 करोड़ (लोक निर्माण विभाग, निर्माण खंड) इससे अधिवक्‍ताओं को मिलेगी सहूलियत। क्षेत्रीय निर्देश मानक प्रयोगशाला का निर्माण पिंडरा-9.03 करोड़ (केंद्रीय लोक निर्माण विभाग) होने से प्रयोगशाला कार्यो को लेकर सहूलियत मिलेगी। ये सभी परियोजनाएं शामिल है।