पाकिस्तान में फिर हिंदू मंदिर पर हमला, आरोपी को बचाने में जुटी थी पुलिस

कराची के नारायणपुरा इलाके में शाम छह बजे एक शख्स हथौड़ा लेकर मंदिर में घुसा और देवी देवताओं की मूर्तियों को तोड़ने लगा। योग माता की मूर्ति को खंडित कर दिया। भीड़ ने आरोपी को धर दबोचा और पुलिस के हवाले कर दिया।

पाकिस्तान में एक बार फिर से हिन्दुओं की आस्था पर हमला हुआ है। कराची में एक कट्टरपंथी ने मंदिर में घुसकर तोड़फोड़ की जिसके बाद देश में भी पाकिस्तान के खिलाफ गुस्से का माहौल देखने को मिल रहा है। पाकिस्तान की आर्थिक राजधानी कहे जाने वाले कराची की आई तस्वीरें इमरान खान के दावों की पोल खोलती नजर आई। नारायणपुरा इलाके में शाम छह बजे एक शख्स हथौड़ा लेकर मंदिर में घुसा और देवी देवताओं की मूर्तियों को तोड़ने लगा। योग माता की मूर्ति को खंडित कर दिया। भीड़ ने आरोपी को धर दबोचा और पुलिस के हवाले कर दिया।

भीड़ ने जब युवक से इस हमले की वजह जानने की कोशिश की तो उसने कहा कि ये बताने के लिए कि इबादत के लायक नहीं है। युवक का नाम वलीद शब्बीर बताया जा रहा है। जबकि उसकी उम्र 22 साल है। घटना के बाद से स्थानीय हिन्दुओं में आक्रोश की लहर पैदा हो गई। घटना के बाद इलाके में तनाव है। उपद्रव के मद्देनजर पाकिस्तानी रेंजर की भी तैनाती की गई है।

लोगों का आरोप है कि मंदिर में मूर्तियों को खंडित करने वाले शख्स को पुलिस बचाने की कोशिश कर रही थी। लेकिन हिन्दुओं के विरोध को देखते हुए पुलिस को लीद शब्बीर को गिरफ्तार करना पड़ा। इस घटना से एक बार फिर कई सवाल खड़े हो गए हैं कि क्या पाकिस्तान में जानबूझकर कट्टपंथियों को बढ़ावा दिया जा रहा है। बार-बार ऐसे हमलों को बावजूद इमरान सरकार ऐसे कट्टपंथियों पर कड़ी कार्रवाई क्यों नहीं कर रही है?