काबुल की हिफाजत के लिए तालिबान को किया गया था निमंत्रित

ये बात तो पूरी दुनिया जानती है कि इधर भारत अपनी आजादी के अमृत महोत्सव की तैयारियों में डूबा था उधर बंदूक के दम पर तालिबान ने काबुल के तख्त पर कब्जा कर लिया था। 15 अगस्त की सुबह से पहले तक ये बात हजम करना मुश्किल था कि अमेरिका के बोरिया-बिस्तर बांधते ही तालिबान इतनी तेजी से काबुल को दबोच लेगा। लेकिन तालिबान की हुकूमत अफगानिस्तान की नई हकीकत बन गया। लेकिन अगर मैं आपसे कहूं कि तालिबन ने अफगानिस्तान पर जबरन कब्जा नहीं किया और उन्होंने तो केवल अपना फर्ज निभाया है। तो आपको ये सुनने में थोड़ा अजीब लगेगा। क्योंकि बंदूक के बल पर जबरन लोगों पर अत्याचार में भला कौन सा फर्ज निभाया जाता है। लेकिन ये बात अफगानिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति की तरफ से कही गई है। तालिबान ने अफगानिस्तान की राजधानी पर कब्जा नहीं किया बल्कि उन्हें आमंत्रित किया गया था। तालिबान को ये निमंत्रण पूर्व राष्ट्रपति हामिद करजई की तरफ से मिला था। एसोसिएटेड प्रेस को दिए एक साक्षात्कार में बड़ा खुलासा करते हुए कहा है कि राष्ट्रपति अशरफ गनी के अफगानिस्तान छोड़ने से ठीक पहले तालिबान को बुलाया गया था। उन्होंने कहा है कि काबुल की हिफाजत के लिए और लोगों की लिए तालिबान को आमंत्रित किया गया था ताकि देश में अराजकता न फैले।


गनी के चले जाने पर उनके सुरक्षा अधिकारी भी वहां से चले गए। रक्षा मंत्री बिस्मिल्लाह खान ने करजई से यहां तक ​​पूछा कि क्या वह काबुल छोड़ना चाहते हैं? करजई, जो 9/11 के हमलों के बाद तालिबान को पहली बार बेदखल किए जाने के बाद 13 साल तक देश के राष्ट्रपति रहे ने वतन छोड़ने से इनकार कर दिया। शहर के बीचों-बीच अपने परिसर में जहां वह अपनी पत्नी और छोटे बच्चों के साथ रहते हैं में एक व्यापक साक्षात्कार में करजई ने बताया कि मैं और अब्दुल्ला अब्दुल्ला ने अशरफ गनी से मुलाकात की और वे इस बात पर सहमत हुए कि वे अगले दिन दोहा के लिए रवाना होंगे और सत्ता-साझाकरण समझौते पर साइन करेंगे। तालिबान के सत्ता में आने से एक दिन पहले 14 अगस्त को संभावित सौदे की उलटी गिनती शुरू हो गई थी। तालिबान पहले से ही काबुल के बाहरी इलाके में थे, लेकिन करजई ने कहा कि कतर में नेतृत्व ने वादा किया था कि जब तक समझौता नहीं हो जाता तब तक विद्रोही बल शहर से बाहर रहेगा।

15 अगस्त की सुबह करजई ने कहा, वह सूची तैयार करने का इंतजार कर रहे थे। तालिबान के अधिग्रहण की अफवाहें उड़ रही थीं। करजई ने दोहा को बताया कि तालिबान शहर में प्रवेश नहीं करेगा। करजई ने कहा कि दोपहर के समय तालिबान ने कहा कि “सरकार को अपने पदों पर बने रहना चाहिए और उनका (तालीबान) शहर में जाने का कोई इरादा नहीं है। करजई ने कहा कि मैंने और अन्य लोगों ने विभिन्न अधिकारियों से बात की और हमें आश्वासन दिया गया कि अमेरिकी और सरकारी बल उन स्थानों पर मजबूती से टिके हुए थे। लगभग 2:45 बजे, हालांकि, यह स्पष्ट हो गया कि गनी ने देश छोड़ दिया था। करजई ने रक्षा मंत्री को बुलाया, आंतरिक मंत्री को बुलाया, लेकिन सभी लोग जा चुके थे। राजधानी में कोई अधिकारी मौजूद नहीं था, कोई पुलिस प्रमुख नहीं था, कोई कोर कमांडर नहीं था, कोई अन्य इकाई नहीं थी। वे सब चले गए थे।

15 अगस्त की सुबह करजई ने कहा, वह सूची तैयार करने का इंतजार कर रहे थे। तालिबान के अधिग्रहण की अफवाहें उड़ रही थीं। करजई ने दोहा को बताया कि तालिबान शहर में प्रवेश नहीं करेगा। करजई ने कहा कि दोपहर के समय तालिबान ने कहा कि “सरकार को अपने पदों पर बने रहना चाहिए और उनका (तालीबान) शहर में जाने का कोई इरादा नहीं है। करजई ने कहा कि मैंने और अन्य लोगों ने विभिन्न अधिकारियों से बात की और हमें आश्वासन दिया गया कि अमेरिकी और सरकारी बल उन स्थानों पर मजबूती से टिके हुए थे। लगभग 2:45 बजे, हालांकि, यह स्पष्ट हो गया कि गनी ने देश छोड़ दिया था। करजई ने रक्षा मंत्री को बुलाया, आंतरिक मंत्री को बुलाया, लेकिन सभी लोग जा चुके थे। राजधानी में कोई अधिकारी मौजूद नहीं था, कोई पुलिस प्रमुख नहीं था, कोई कोर कमांडर नहीं था, कोई अन्य इकाई नहीं थी। वे सब चले गए थे। करजई को महल में आने और राष्ट्रपति पद संभालने के लिए बुलाया गया लेकिन उन्होंने इससे इनकार कर दिया। पूर्व राष्ट्रपति ने अपने बच्चों के साथ एक सार्वजनिक, टेलीविज़न संदेश बनाने का फैसला किया, “ताकि अफगान लोगों को पता चले कि हम सब यहाँ हैं। करजई ने कहा कि यदि गनी काबुल में रहते तो शांतिपूर्ण परिवर्तन के लिए समझौता हो जाता