अंतरराष्ट्रीय फिल्म महोत्सव का शुभारंभ

पणजी। भारतीय अंतरराष्ट्रीय फिल्म महोत्सव (आईएफएफआई) के भारतीय पेनोरमा खंड की रविवार को यहां पर शुरुआत हुई। इसमें फीचर फिल्म श्रेणी में एमी बरुआ की ‘सेमखोर’ का प्रदर्शन किया गया और गैर फीचर फिल्म की श्रेणी में राजीव प्रकाश की ‘वेद द विजनरी’ दिखाई गई।
केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्री अनुराग ठाकुर ने इस खंड की शुरुआत की। इसमें कुल 25 फीचर फिल्म और 20 गैर-फीचर फिल्म दिखाई जाएंगी। अभिनेत्री एवं फिल्मकार एमी बरुआ की ‘सेमखोर’ दिमासा भाषी पहली फिल्म है। यह सेमखोर में समसा समुदाय से संबंधित फिल्म है। इसके लिए बरुआ ने असम के दिमासा समुदाय के बोलने के लहजे को विशेष तौर पर सीखा।
राजीव प्रकाश की ‘वेद द विजनरी’ अंग्रेजी भाषा की फिल्म है। यह फिल्म फिल्मकार वेद प्रकाश के जीवन और 1939 से 1975 के बीच न्यूजरील फिल्मांकन की उनकी यात्रा पर आधारित है जिनके उल्लेखनीय कामों में, जनवरी 1948 में महात्मा गांधी की अंत्येष्टि की न्यूज कवरेज शामिल है जिसे 1949 में ब्रिटिश ऐकेडमी अवॉर्डस के लिए नामित किया गया था। ठाकुर ने उद्घाटन भाषण में, आईएफएफआई में आए लोगों से इस महोत्सव को और बेहतर बनाने के लिए सुझाव देने का अनुरोध किया। तमिल फिल्म ‘कूझांगल’ फीचर फिल्म श्रेणी में दिखाई जाएगी। यह फिल्म 2022 के ऐकेडमी अवॉर्डस में अंतरराष्ट्रीय फीचर फिल्म श्रेणी में भारत की ओर से भेजी गई है। आईएफएफआई का 52वां संस्करण 28 नवम्बर तक चलेगा।