सर्दियों में बच्चों की करें विशेष देखभाल

नई दिल्ली। सर्दियों के मौसम में बच्चों की देखभाल हर मां के लिए चुनौती होती है। यह चुनौती और भी बढ़ जाती है अगर बच्चे की पहली सर्दियां हों। नवजात शिशु को सर्दी से बचाना बहुत अहम है।
नवजात शिशुओं की प्रतिरक्षा पण्राली विकसित हो रही होती है, जो उन्हें सन संक्रमण के प्रति संवेदनशील बनाती है। नवजात शिशुओं को तब तक अतिरिक्त देखभाल की आवश्यकता होती है जब तक कि उनके शरीर को वायरस और बैक्टीरिया के हानिकारक प्रभावों से बचाने के लिए उनकी प्रतिरक्षा पण्राली मजबूत न हो जाए। सर्दियों के मौसम में नवजात की देखभाल के तरीकों पर मधुकर रेनबो चिल्ड्रेन हॉस्पिटल के डा. अनिल बत्रा ने बताया कि नवजात शिशुओं के माता-पिता को तापमान ज्यादा रखने के लिए बच्चे के कमरे में पोर्टेबल हीटर का उपयोग करना चाहिए। हीटर के ज्यादा इस्तेमाल से हवा शुष्क हो जाती है। इसलिए, बच्चे के कमरे में ह्यूमिडिफायर रखने से सर्दियों के मौसम में आपके बच्चे को सुरक्षित रखने के लिए नमी का स्तर भी संतुलित रहेगा। साथ ही उन्होंने बच्चे की त्वचा को मुलायम और कोमल बनाए रखने के लिए एक अच्छा मॉइश्चराइजर लगाने का भी सुझाव दिया। दूध की मलाई और मक्खन से बना लोशन भी बेहतर विकल्प हो सकता है।
मालिश भी बच्चे की त्वचा को कोमल और स्वस्थ रखने के लिए अहम है। मालिश लिए प्राकृतिक तेल का प्रयोग करें। सुनिश्चित करें कि जिस कमरे में आप बच्चे की मालिश कर रही हैं, वह गर्म हो। डा. बत्रा ने कहा कि बच्चे को हल्के कंबल से ढकना चाहिए। इससे उन्हें सांस लेने में दिक्कत नहीं होती है। कमरे के तापमान को सही रखने के लिए हीटर जैसे अन्य विकल्प अपनाने चाहिए। बच्चों को कपड़े भी आरामदायक ही पहनाने चाहिए। इससे उन्हें उलझन नहीं होती है और वे आसानी से सब मूवमेंट कर पाते हैं। बच्चों को स्तनपान कराना और सफाई का ध्यान रखना भी बहुत जरूरी होता है।