उपचुनाव : नीतीश का तीर निशाने पर, बुझी लालू की लालटेन, कांग्रेस ने बिगाड़ा काम

बिहार के कुश्वेवरस्थान और तारापुर सीट पर जनता दल (यूनाइटेड) ने जीत दर्ज की जिसके बाद तेज प्रताप यादव का बड़ा बयान सामने आया है। उन्होंने हार के लिए राजद के नेताओं को जिम्मेवार बताया और कहा कि कांग्रेस के साथ गठबंधन तोड़ना भी भारी पड़ा।

बिहार विधानसभा उपचुनाव के लिए हुए दो सीटों पर मतदान के नतीजे घोषित कर दिए गए हैं। दोनों ही सीटों पर जदयू ने कब्जा जमाया है। इन दोनों सीटों पर जदयू की जीत ने इस बात पर मोहर लगा दी कि नीतीश कुमार का जादू अभी भी बरकरार है। जमानत पर रिहा होने के बाद करीब तीन साल के बाद बिहार की धरती पर कदम रखने वाले लालू का मैजिक पूरी तरह से बेअसर रहा। हार के बाद जहां तेजप्रताप ने अपनी पार्टी के नेताओं पर निशाना साधा है वहीं बीजेपी ने लालू पर तंज भी कसा है।

कुशेश्वरस्थान सीट पर जेडीयू के प्रत्याशी अमन भूषण हजारी ने 12 हजार से ज्यादा मतों से विजयी हुए हैं। हजारी ने आरजेडी के प्रत्याशी गणेश भारती को 12500 से अधिक मतों से पराजित किया है। अमन भूषण हजारी के पिता शशिभूषण हजारी ने 2020 बिहार विधानसभा चुनाव में इस सीट से जीत दर्ज की थी, लेकिन उनकी असामयिक निधन हो गया है। वहीं तारापुर में जेडीयू के राजीव कुमार सिंह ने जीत दर्ज की है। 2020 में इस सीट से विधायक बने राजीव के पिता मेवालाल चौधरी की कोरोना से असामयिक निधन होने से यह जगह खाली हुई थी।

बिहार के कुश्वेवरस्थान और तारापुर सीट पर जनता दल (यूनाइटेड) ने जीत दर्ज की जिसके बाद तेज प्रताप यादव का बड़ा बयान सामने आया है। उन्होंने हार के लिए राजद के नेताओं को जिम्मेवार बताया और कहा कि कांग्रेस के साथ गठबंधन तोड़ना भी भारी पड़ा। तेज प्रताप यादव ने कहा कि कांग्रेस के साथ हमेशा से ही राजद खड़ी रही है। उन्होंने कहा कि भले ही लोगों ने अलग-अलग चुनाव लड़ने का फैसला लिया हो लेकिन कांग्रेस शुरू से हम लोगों का सहयोगी रही है। सोनिया गांधी के साथ भी पिताजी की लगातार बातचीत होती रहती है। इस चुनाव के दौरान भी दोनों में बात हुई है। हम कांग्रेस को शुरू से ही लेकर चलने का काम किए हैं। संगठन में जगदानंद सिंह, सुनील सिंह और संजय पार्टी को हरवाने का काम किए हैं और पार्टी को बर्बाद कर दिया।

बिहार विधानसभा के उपचुनाव में दोनों सीटों पर एनडीए की विजय पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए भाजपा नेता और राज्यसभा सांसद सुशील मोदी ने कहा कि यह उन लोगों के मुंह पर करारा तमाचा है, जो प्रदेश में राजनीतिक अस्थिरता का खेला करने की मंशा पाले हुए थे। ये परिणाम साबित करते हैं कि लालू प्रसाद एक फ्यूज बल्ब हैं और उनकी पार्टी कन्फ्यूज हाथों में है।

तेजस्वी यादव जनादेश का सम्मान करने की बात कहते हुए उपचुनाव के परिणाम को राजद के लिए बेहतर बताया। उन्होंने कहा कि कुशेश्वरस्थान में हमलोगों ने राष्ट्रीय जनता दल के बनने के बाद कभी चुनाव नहीं लड़ा था। जदयू के उम्मीदवार को सहानुभूति वोट जरूर मिले, लेकिन हमारे दल ने दमदार उपस्थिति दिखाई है।