कोयला संकट : शाह ने संभाली कमान

नई दिल्ली। कोयले की आपूर्ति में किल्लत की खबरों के बीच गृह मंत्री अमित शाह ने सोमवार को स्थिति की समीक्षा के लिए केंद्रीय ऊर्जा मंत्री आरके सिंह और कोयला मंत्री प्रह्लाद जोशी से मुलाकात की। बैठक में मंत्रालयों और एनटीपीसी के वरिष्ठ अधिकारी भी मौजूद थे। सूत्रों ने बताया कि बैठक एक घंटे तक चली और शाह ने स्थिति की समीक्षा की और बैठक में उपस्थित सभी लोगों से देश भर के ताप विद्युत संयंत्रों (थर्मल पावर प्लांट) को कोयले की पर्याप्त आपूर्ति सुनिश्चित करने को कहा। कोयला मंत्रालय ने आस्त किया कि बिजली संयंत्रों की मांग को पूरा करने के लिए देश में पर्याप्त कोयला उपलब्ध है।
कोयला मंत्रालय ने रविवार को एक बयान में कहा था, ‘‘कोयला मंत्रालय आस्त करता है कि बिजली संयंत्रों की मांग को पूरा करने के लिए देश में पर्याप्त कोयला उपलब्ध है। बिजली आपूर्ति बाधित होने की आशंका पूरी तरह गलत है। बिजली संयंत्र के पास कोयले का स्टॉक लगभग 72 लाख टन है, जो 4 दिनों की आवश्यकता के लिए पर्याप्त है। कोल इंडिया लिमिटेड (सीआईएल) के पास 400 लाख टन से अधिक कोयला है, जिसकी बिजली संयंत्रों को आपूर्ति की जा रही है।’’
रविवार को केंद्रीय ऊर्जा मंत्री सिंह ने दिल्ली की वितरण कंपनियों को बिजली की आपूर्ति करने वाले संयंत्रों सहित सभी ताप विद्युत संयंत्रों में कोयले के भंडार की स्थिति की भी समीक्षा की थी। पिछले हफ्ते दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को एक पत्र में संयंत्रों को कोयले की कम आपूर्ति के कारण संभावित बिजली संकट के बारे में सतर्क किया था।