चन्नी ने मुख्यमंत्री पद की शपथ ली, बोले, कृषि कानूनों को वापस ले केंद्र

चंडीगढ़। पंजाब में कांग्रेस विधायक दल के नेता चरणजीत सिंह चन्नी ने सोमवार को मुख्यमंत्री पद की शपथ ली। राजभवन में आयोजित कार्यक्रम में राज्यपाल बनवारी लाल पुरोहित ने उन्हें पद एवं गोपनीयता की शपथ दिलाई। चन्नी पंजाब में मुख्यमंत्री बनने वाले दलित समुदाय के पहले व्यक्ति हैं।
चन्नी के साथ सुखजिंदर सिंह रंधावा और ओम प्रकाश सोनी ने भी मंत्री पद की शपथ ली जो राज्य के उप मुख्यमंत्री हो सकते हैं। रंधावा जट सिख और सोनी ¨हदू समुदाय से आते हैं। शपथ ग्रहण के बाद अपने पहले संवाददाता सम्मेलन में चन्नी ने किसान आंदोलन का समर्थन किया और कहा कि केंद्र को तीनों कृषि कानून वापस लेने चाहिए।
उन्होंने कहा कि कांग्रेस इन ‘काले कानूनों’ के खिलाफ किसानों के आंदोलन के साथ मजबूती से खड़ी है। मुख्यमंत्री ने जोर देकर कहा कि उनकी अगुवाई वाली सरकार पंजाब के सभी मुद्दों का समाधान करेगी और सभी के लिए काम करेगी। चन्नी दलित सिख समुदाय से आते हैं और अमरिंदर सरकार में तकनीकी शिक्षा मंत्री थे। रंधावा गुरुदासपुर जिले के डेरा बाबा नानक विधानसभा क्षेत्र से विधायक हैं। वह अमरिंदर सिंह के नेतृत्व वाली सरकार में कारागार मंत्री थे। सोनी अमृतसर (मध्य) विधानसभा क्षेत्र से विधायक हैं और पिछली सरकार में स्कूली शिक्षा मंत्री थे।
चन्नी का शपथ ग्रहण समारोह 11 बजे होना था लेकिन इसमें थोड़ा विलंब हुआ। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी राजभवन पहुंचे और शपथ लेने वाले तीनों नेताओं को बधाई दी। कांग्रेस सूत्रों का कहना है कि राहुल गांधी को पहुंचने में कुछ मिनटों का विलंब हो गया था। राज्यपाल बनवारीलाल पुरोहित ने चन्नी, रंधावा और सोनी को पद एवं गोपनीयता की शपथ दिलाई।