क्रूज मिसाइल का टेस्ट उत्तर कोरिया ने किया

सोल। उत्तर कोरिया ने सोमवार को कहा कि उसने लंबी दूरी की नई क्रूज मिसाइल का सफल परीक्षण किया है। बीते कई महीनों में उत्तर कोरियाई मिसाइल परीक्षण की यह पहली ज्ञात गतिविधि है जो रेखांकित करती है कि किस तरह अमेरिका के साथ परमाणु वार्ता में गतिरोध के बीच उत्तर कोरिया सैन्य क्षमताओं का विस्तार कर रहा है।
कोरियन सेंट्रल न्यूज एजेंसी (केसीएनए) ने सोमवार को कहा, क्रूज मिसाइल विकसित करने का काम बीते दो साल से चल रहा था और शनिवार तथा रविवार को परीक्षण के दौरान उसने 1500 किलोमीटर दूर स्थित लक्ष्य पर मार करने की क्षमता का प्रदर्शन किया है।
उत्तर कोरिया ने नई मिसाइलों को ‘बेहद महत्वपूर्ण सामरिक हथियार’ बताया जो सेना को मजबूत करने के देश के नेता किम जोंग उन के आह्वान के अनुरूप है। इसका मतलब यह है कि ऐसी मिसाइलें विकसित करने के पीछे उनका इरादा सेना को परमाणु हथियारों से लैस कराने का है। दक्षिण कोरिया के ज्वाइंट चीफ्स ऑफ स्टाफ ने कहा, सेना अमेरिका तथा दक्षिण कोरिया की खुफिया सेवा के जरिए उत्तर कोरिया के परीक्षणों का विश्लेषण कर रहा है। अमेरिकी ¨हद प्रशांत कमान ने कहा, वह सहयोगियों से मिलकर हालात पर नजर रख रही है। जापान ने इसे अत्यंत चिंताजनक बताया। उत्तर कोरिया के मजबूत सहयोगी माने जाने वाले चीन ने इस संबंध में कोई टिप्पणी नहीं की।
चीनी विदेश मंत्रालय के एक प्रवक्ता झाओ लिजियन ने केवल सभी संबंधित पक्षों से संयम बरतने, एक ही दिशा में आगे बढ़ने, सक्रिय रूप से बातचीत और संपर्क में रहने का आग्रह किया ताकि एक राजनीतिक समझौते पर पहुंचा जा सके। उत्तर कोरिया द्वारा परीक्षण गतिविधियां फिर शुरू करना बाइडन प्रशासन पर दबाव बनाने का प्रयास माना जा सकता है।
इससे पहले, उत्तर कोरिया ने लगभग एक साल के अंतराल के बाद, इसी साल मार्च में कम दूरी की दो बैलिस्टिक मिसाइलों का सागर में परीक्षण किया था। केसीएनए ने कहा, मिसाइलों ने अपने निशानों पर मार करने से पहले उत्तर कोरिया की भूमि और जल क्षेत्र के ऊपर 126 मिनट तक उड़ान भरी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *