अफगानिस्तान : देश छोड़ने के लिए गंदे नाले में खड़े हैं हजारों अफगानी, लगा रहे मदद की गुहार

अफगानिस्तान पर तालिबान के कब्जे के बाद वहां के हालात लगातार बिगड़ते जा रहे है। हर तरफ अफरा-तफरी का माहौल है। स्थानीय लोगों के देश छोड़ने के लिए लगातार संघर्ष करना पड़ रहा है। दूसरी ओर तालिबान ने साफ तौर पर कह दिया है कि किसी भी अफगानी नागरिक को वह देश छोड़ने नहीं देगा। यही कारण है कि तालिबान अब अफगान नागरिकों को काबुल एयरपोर्ट की यात्रा करने से रोक रहे है ताकि कोई नागरिक विदेश ना चला जाए। दूसरी और तालिबान एयरपोर्ट के पास अब भी हजारों लोगों की भीड़ है। एक वीडियो को वायरल हो रहा है जिसमें सैकड़ों अफगान नागरिक घुटनों तक सीवर के पानी में खड़े होकर अपने कागजात को लहराते हुए दिखाई दे रहे हैं।

एयरपोर्ट पर सुरक्षा में तैनात अमेरिकी सैनिकों से यह अंदर प्रवेश करने की गुहार लगा रहे है। इनमें कई महिलाएं भी हैं जो अपने बच्चों को गोद में रखी हुई हैं। एयरपोर्ट जाने वाले रास्ते को ब्लॉक कर दिया गया है। तालिबान से बचने के लिए लोग के सिवर और नाले में छिपने के लिए तैयार हैं। इसके अलावा वहां की स्थिति लगातार बिगड़ती जा रही है। महंगाई चरम पर है। लोगों को एयरपोर्ट पर जीने के लिए एक बोतल पानी की कीमत लगभग ₹3000 देनी पड़ रही है जबकि एक प्लेट चावल की कीमत 7000 के ऊपर है।

मेरिकी रक्षा मुख्यालय पेंटागन ने कहा है कि तालिबान ने काबुल हवाईअड्डे के आस-पास पहुंच एवं नियंत्रण के अपने कदमों को मजबूत कर दिया है। अंतरराष्ट्रीय समुदाय के लिए अफगानिस्तान में लोगों तक पहुंचने का एकमात्र माध्यम हामिद करजई अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डा है। पेंटागन के प्रेस सचिव जॉन किर्बी ने बुधवार को संवाददाता सम्मेलन में कहा, “तालिबान ने अपनी चौकियों पर सुरक्षा बढ़ा दी है और वे भीड़ नियंत्रण में जुट गए हैं… हमने कल अनुमान लगाया कि भीड़ पिछले दिनों की तुलना में लगभग आधी है।”