विश्वभर में पैर पसार रहा कोरोना का डेल्टा वेरिएंट, अब तक 96 देशों में पाया गया नया स्वरुप

विश्वभर में कोरोना महामारी का आतंक अब भी जारी है, कहीं कम तो कहीं ज्यादा लेकिन हर देश में संक्रमण के मामले सामने आ रहे हैं। इस बीच कोरोना वायरस का खतरनाक और जानलेवा स्वरुप डेल्टा ने भी अपने पैर पसारने शुरू कर दिए हैं। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने अपने नवीनतम अपडेट में कहा है कि डेल्टा कोविड वेरिएंट अब 96 देशों में पाया गया है, जो पिछले सप्ताह की तुलना में 11 अधिक है। समाचार एजेंसी सिन्हुआ के मुताबिक डब्ल्यूएचओ ने बुधवार को जारी अपडेट में कहा गया है कि डेल्टा वेरिएंट , जिसे डबल म्यूटेंट भी कहा जाता है, इसमें दो म्यूटेशन होते हैं।

अल्फा वेरिएंट की तुलना में 55 प्रतिशत अधिक पारगम्य है, जो शुरूआत में यूके में पाया गया था और तेजी से वैश्विक स्तर पर प्रमुख तनाव बन जाएगा डब्ल्यूएचओ ने बुधवार को जारी अपडेट में कहा है। अफ्रीका ने वेरिएंट के कई नए प्रकोपों की सूचना दी है क्योंकि ट्यूनीशिया, मोजाम्बिक, युगांडा, नाइजीरिया और मलावी इस डेल्टा से संक्रमित 11 देशों में शामिल हैं।

पहली बार अक्टूबर 2020 में पता चला था कि डेल्टा वेरिएंट में कई स्पाइक म्यूटेशन हैं जो इसकी संप्रेषणीयता और एंटीबॉडी को बेअसर करने के प्रतिरोध और संभवत: टीकों को भी बढ़ाते हैं। इसके अलावा, स्कॉटलैंड में हाल ही में किए गए और अंतर्राष्ट्रीय मेडिकल जर्नल लैंसेट में प्रकाशित एक अध्ययन में पाया गया कि डेल्टा वेरिएंट से संक्रमित रोगियों के लिए अस्पताल में भर्ती होने की दर अल्फा स्ट्रेन से संक्रमित लोगों की तुलना में 85 प्रतिशत अधिक थी।