पाकिस्तान में मची खलबली, सेना प्रमुख संग आईएसआई मुख्यालय पहुंचे इमरान

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जम्मू-कश्मीर में राजनीतिक प्रक्रिया शुरू करने के उद्देश्य गुरुवार को नई दिल्ली में सर्वदलीय बैठक बुलाई है। दिल्ली में जम्मू-कश्मीर के नेताओं के साथ पीएम मोदी की बैठक से पहले पाकिस्तान में खलबली मच गई है। भारत में बैठक शुरू होने से पहले पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान एक बार फिर खुफिया एजेंसी आईएसआई के मुख्यालय पहुंचे।

पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई के इस्लामाबाद स्थित मुख्यालय में इमरान खान और सेना प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा व एजेंसी के शीर्ष अफसरों की बैठक हुई। एक माह में इमरान का आईएसआई मुख्यालय का यह दूसरा दौरा है। राष्ट्रीय खुफिया समन्वय समिति (एनआईसीसी) की यह बैठक ऐसे वक्त हुई है, जब भारत में जम्मू-कश्मीर के नेताओं के साथ प्रधानमंत्री मोदी बैठक करने वाले हैं। वहीं लाहौर में आतंकी सरगना हाफिज सईद के घर के पास धमाके में दो लोगों की मौत हो गई और 17 घायल हो गए। धमाके से पूरा इलाका थर्रा गया। उधर, अफगानिस्तान में तालिबान फिर सक्रिय है। इमरान खान के साथ पाक के शीर्ष सैन्य व खुफिया अधिकारियों ने इन्हीं मुद्दों पर चर्चा की। एनआईसीसी की हाल ही में स्थापना की गई है।

पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय के कार्यालय के मुताबिक, विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने कहा है कि पाकिस्तान ने भारत के 5 अगस्त, 2019 के कदम का पूरी तरह से विरोध किया और आगे भी करता रहेगा। उन्होंने कहा कि भारत को 5 अगस्त, 2019 की कार्रवाई के बाद कश्मीर में कोई और अवैध कदम उठाने से बचना चाहिए।

बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में जम्मू-कश्मीर के सर्वदलीय नेताओं की आज बैठक होनी है। मोदी सरकार ने जम्मू-कश्मीर की 14 राजनीतिक पार्टियों को एक बैठक में शामिल होने का न्यौता दिया है। बताया जा रहा है कि बैठक में राज्य में विधानसभा चुनाव कराए जाने पर अहम चर्चा हो सकती है।

पूर्व मुख्यमंत्री और पीडीपी प्रमुख महबूबा मुफ्ती ने पीएम संग बैठक में शामिल होने का निमंत्रण मिलने की पुष्टि की। इस दौरान उन्होंने यह भी कहा कि इस बैठक में पाकिस्तान को भी शामिल किया जाना चाहिए। उनके इस बयान विवाद खड़ा हो गया।