बिहार: नेपाल में बारिश ने बढ़ाई परेशानी, गंडक नदी खतरे के निशान से ऊपर, 215 गांवों पर बाढ़ का खतरा

स्थिति की गंभीरता को देखते हुए प्रशासन की ओर से हाई अलर्ट जारी कर दिया गया है. प्रशासनिक अधिकारियों ने निचले इलाके में रहने वाले सभी लोगों को तत्काल सुरक्षित स्थलों पर जाने को कहा है.
गोपालगंज: भारत के पड़ोसी देश नेपाल में पिछले 48 घंटे से हो रही घमसान बारिश के कारण गंडक नदी उफान पर है. इसी बीच वाल्मीकिनगर बराज से मंगलवार की शाम चार बजे 2.64 लाख क्यूसेक पानी डिस्चार्ज होने के कारण गंडक नदी खतरे के निशान को पार करते हुए पतहरा में डेंजर लेवल के 50 सेमी ऊपर पहुंच चुकी है. बुधवार तक डेढ़ से दो मीटर और ऊपर पहुंचने के आसार हैं. नदी का जलस्तर तेजी से बढ़ रहा है, जिससे जिले के निचले इलाके के 215 गांवों पर बाढ़ का खतरा मंडराने लगा है.

स्थिति की गंभीरता को देखते हुए प्रशासन की ओर से हाई अलर्ट जारी कर दिया गया है. प्रशासनिक अधिकारियों ने निचले इलाके में रहने वाले सभी लोगों को तत्काल सुरक्षित स्थलों पर जाने को कहा है. माना जा रहा कि बुधवार की शाम तक नदी का पानी गावों तक पहुंच सकता है. ऐसे में बढ़ते जलस्तर को ध्यान में रखते हुए जल संसाधन विभाग की ओर से अलर्ट जारी कर दिया गया है. तटबंधों पर अभियंताओं को तैनात करते हुए, उन्हें 24 घंटे निगरानी करने का आदेश दिया गया है.

बता दें कि गंडक नदी का कालामटिहनियां में सीधा अटैक गाइडबांध पर है. नदी बांध के पास दबाव बनाए हुए है. कार्यपालक अभियंता श्रीनिवास प्रसाद, सहायक अभियंता अबरार अरसद, कनीय अभियंता मुकेश कुमार सिंह, विभाष कुमार गुप्ता, मो. मजीद, दिनेश कुमार, अरविंद कुमार, सुनील कुमार आदि बांध के पास मौजूद हैं. जबकि मुख्य अभियंता एफसी एंड डी प्रकाश दास, अधीक्षण अभियंता विनय कुमार सिंह ने बैकुंठपुर में सर्वाधिक डेंजर प्वाइंट होने के कारण बांध पर निगरानी बढ़ा दी है. तटबंधों पर दबाव बढ़ने के कारण अभियंताओं की चिंता बढ़ी हुई है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *