मंगल पर भी पाई जाती हैं पृथ्वी जैसी ‘चट्टानें’, परसेवरेंस रोवर ने खींची तस्वीर, क्या जीवन की खोज के करीब है नासा ?

नासा का परसेवरेंस रोवर मंगल ग्रह पर जीवन की तलाश कर रहा है और लगातार तस्वीरें खींचकर धरती पर भेज रहा है. इसी क्रम में अब नासा के रोवर ने बड़ी सफलता हासिल की है. रोवर को मंगल पर एक चट्टान दिखाई दी है, जो बिल्कुल पृथ्वी पर पाई जाने वाली चट्टान जैसी है. नासा ने ट्वीट कर कहा कि ये चट्टान पृथ्वी पर पाई जाने वाली ज्वालामुखी चट्टान जैसी है.
नासा के परसेवरेंस रोवर के ट्विटर हैंडल से शेयर किए गए वीडियो में यह चट्टान देखी जा सकती है. इस खोज को रोवर के लिए बड़ी सफलता माना जा रहा है क्योंकि इससे मंगल पर जीवन के कई रहस्य खुल सकते हैं. हालांकि नासा ने स्पष्ट किया है कि रोवर का लक्ष्य दरअसल ज्वालामुखी चट्टानों की खोज नहीं बल्कि सेडिमेंटरी चट्टानें हैं.
रोवर ने Jezero Crater में किया लैंड
वैज्ञानिकों का मानना है कि मंगल पर कभी जीवन था, जिसके निशान चट्टानों की परतों में मिल सकते हैं. बता दें कि परसेवरेंस रोवर ने Jezero Crater में लैंड किया है. ये क्षेत्र 28 मील चौड़ा और Isidis Planitia नाम के इलाके के पश्चिमी छोर पर स्थित है. मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक एक उल्कापिंड के गिरने से Isidis Planitia का निर्माण हुआ जो 750 मील का एक गड्ढा है.
बाद में एक दूसरे लेकिन छोटे उल्कापिंड के गिरने से Jezero Crater का निर्माण हुआ. वैज्ञानिकों का मानना है कि ये क्रेटर एक समय पर पानी से भरा हुआ था. करीब 3.5 अरब साल पहले इस झील का निर्माण नदियों के पानी से हुआ था. वैज्ञानिकों को ऐसे सबूत मिले हैं जिनसे पता चलता है कि झील में मिनरल मौजूद थे.
मिल सकते हैं सेडिमेंट के निशान
ऐसे में संभावना है कि यहां सूक्ष्मजीव भी हो सकते हैं. ऐसे में वैज्ञानिकों झील के तल में सेडिमेंट के निशान मिल सकते हैं. बता दें कि अमेरिकी स्पेस एजेंसी नासा द्वारा प्रक्षेपित रोवर को कैमरों और उपकरणों के साथ तैयार किया गया है, जो चट्टानों की जांच में इसकी मदद करता है. इसमें सुपरकैम और एक लेजर उपकरण भी लगा हुआ है.