मिल्खा सिंह की हालत में हल्का सुधार, अभी भी अस्पताल में भर्ती

फ्लाइंग सिख के नाम से मशहूर लीजेंड एथलीट मिल्खा सिंह की हालत स्थिर है. उन्हें गुरुवार को ऑक्सीजन की मात्रा कम होने की शिकायत के बाद अस्पताल में भर्ती कराया गया था. इस बीच अस्पताल के प्रवक्ता ने कहा है कि कोरोना के कारण उनकी तबीयत बिगड़ने के बाद मिल्खा सिंह को आईसीयू में भर्ती किया गया था. लेकिन आज उनकी तबीयत में सुधार है वह स्थिर हैं. तीन डॉक्टरों की टीम उनकी सेहत पर नजर रखें हुए हैं. करीब 91 साल के मिल्खा सिंह को पहले मोहाली के फोर्टिस अस्पताल में भर्ती किया गया था लेकिन गुरुवार को उन्हें चंडीगढ़ के पीजीआईएमईआर में भर्ती किया गया. मोहाली के अस्पताल से डिस्चार्ज होने के चार दिन बाद मिल्खा को ऑक्सीजन की कमी होने से उन्हें फिर अस्पताल में भर्ती किया गया? मिल्खा की पत्नी निर्मला अभी भी मोहाली के अस्पताल में आईसीयू में भर्ती हैं. इससे पहले दोबार अस्पताल में भर्ती होने पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने फोन के जरिए मिल्खा सिंह का हालचाल जाना था. पीएम मोदी ने मिल्खा सिंह के जल्द ठीक होने की कामना की है. पीएम मोदी ने उम्मीद जताई है कि मिल्खा सिंह जल्द ही ठीक होंगे टोक्यो ओलंपिक्स में शामिल होने वाले खिलाड़ियों को अपना आशीर्वाद देंगे.

मिल्खा सिंह 2 हफ्ते पहले कोरोना वायरस का शिकार हो गए थे. संक्रमित होने के बाद वो चंडीगढ़ स्थित अपने घर में आइसोलेशन ऑक्सीजन सपोर्ट पर थे. हालांकि बाद में तबीयत बिगड़ने पर सावधानी के तौर पर उन्हें मोहाली के फोर्टिस अस्पताल में भर्ती कराया गया था. 31 मई को मिल्खा सिंह की कोरोना वायरस रिपोर्ट नेगेटिव आई थी. परिवार के आग्रह पर उन्हें रविवार को अस्पताल से छुट्टी दे दी गई थी. लेकिन एक बार फिर से मिल्खा सिंह को सांस लेने में तकलीफ का सामना करना पड़ा है. इसी वजह से गुरुवार दोपहर को उन्हें दोबारा हॉस्पिटल में भर्ती करवाया गया. फिलहाल मिल्खा सिंह की हालत स्थिर बताई जा रही है डॉक्टर्स की एक टीम उनकी देखभाल कर रही है. मिल्खा सिंह की पत्नी भी कोरोना वायरस से जूझ रही हैं उनका हॉस्पिटल में इलाज चल रहा है. मिल्खा सिंह के नाम कई बड़े रिकॉर्ड दर्ज हैं. मिल्खा सिंह ने 200 मीटर 400 मीटर रेस में भारत को कई मेडल दिलाए हैं. इसके अलावा मिल्खा सिंह 1960 कॉमनवेल्थ गेम्स में भारत के लिए गोल्ड मेडल जीतने वाले पहले खिलाड़ी बने थे. मिल्खा सिंह 1960 ओलंपिक खेलों में 400 मीटर रेस में चौथा स्थान हासिल करने में कामयाब हुए थे.