जापान ने ओलंपिक के शुरू होने से पहले टीकाकरण अभियान को दी रफ्तार

जापान ने टोक्यो और ओसाका में कोरोना वायरस से बचाव के लिए टीकाकरण अभियान को तेज करने के लिए सैन्य चिकित्सकों और नर्सों की सहायता ली है। ओलंपिक खेलों से दो महीने पहले संक्रमण के मामलों को नियंत्रित करने और टीकाकरण अभियान को गति देने के लिए सरकार लगातार प्रयास कर रही है।

प्रधानमंत्री योशिहिदे सुगा तोक्यो में ओलंपिक खेलों का आयोजन कराने के लिए प्रतिबद्ध हैं और उन्होंने जुलाई के अंत तक देश के 3.6 करोड़ बुजुर्गों का टीकाकरण पूरा करने का महात्वाकांक्षी लक्ष्य निर्धारित किया है। अधिकतर नागरिकों का टीकाकरण नहीं होने और लोगों की सुरक्षा से जुड़ी चिंताओं के कारण जापान में प्रदर्शन बढ़े हैं और 23 जुलाई से शुरू हो रहे ओलंपिक खेल को रद्द करने की मांग भी उठ रही है।
सुगा के नेतृत्व वाली सरकार ने अप्रैल के आखिर से बार-बार देश में आपात स्थिति की अवधि और क्षेत्र को बढ़ाया है और वायरस से जंग के अपने प्रयासों को और सख्त किया है। लेकिन कोविड-19 के मामलों में अब भी लगातार वृद्धि को देखते हुए सुगा ने कहा कि संक्रमण को रोकने का एकमात्र तरीका टीकाकरण ही है। अगले तीन महीने में तोक्यो में प्रतिदिन 10,000 तथा ओसाका में प्रतिदिन 5,000 लोगों के टीकाकरण का लक्ष्य रखा गया है।

उधर, पूरे विश्व में कोरोना के मामले बढ़कर 16.69 करोड़ से ज्यादा हो गए है, जबकि इससे मरने वालों की संख्या बढ़कर 34.5 लाख हो गई है। इसकी जानकारी जॉन्स हॉपकिन्स यूनिवर्सिटी ने दी। सोमवार सुबह अपने नवीनतम अपडेट में, यूनिवर्सिटी के सेंटर फॉर सिस्टम साइंस एंड इंजीनियरिंग (सीएसएसई) ने बताया कि वर्तमान में विश्व में कोरोना संक्रमण और मरने वालों की संख्या क्रमश: बढ़कर 16,69,36,377 और 34,58,820 हो गई है।