नड्डा के काफिल पर हमला मामला, बड़े एक्शन की तैयारी में गृह मंत्रालय

पश्चिम बंगाल में चुनाव से पहले सियासी पारा चढ़ता हुआ नजर आ रहा है। एक तरफ जहां बीजेपी का ताबड़तोड़ चुनावी कार्यक्रम और ममता बनर्जी का उस पर पलटवार। वहीं राज्य में बीजेपी नेताओं पर हमले की घटना ने सूबे के सियासी पारे को और बढ़ा दिया है। बीजेपी चीफ जेपी नड्डा के काफिले पर हमले के मामले ने तूल पकड़ना शुरू कर दिया है। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार बंगाल के राज्यपाल ने मामले को लेकर केंद्र को रिपोर्ट सौंपी है। जिसके बाद गृह मंत्रालय ने पश्चिम बंगाल में कानून-व्यवस्था की स्थिति पर राज्य के डीजीपी और मुख्य सचिव को समन भेजा है। 14 दिसंबर को डीजीपी और मुख्य सचिव की गृह मंत्रालय में पेशी होगी। सूत्रों के अनुसार संतुष्ट जवाब नहीं मिलने पर दोनों पर बड़ी कार्यवाई की जा सकती है।

बता दें कि दक्षिण 24 परगना में जेपी नड्डा के काफिले पर हमला हुआ था। जिसके बाद जेपी नड्डा ने कोलकाता के डायमंड हार्बर में कहा था कि कैलाश विजयवर्गीय जी, राहुल सिंहा जी को देखिए, इनकी गाड़ियों को देखिए। मैं तो इसलिए सुरक्षित हूं क्योंकि मेरे पास बुलेट प्रूफ गाड़ी थी। वरना आज कोई ऐसी गाड़ी नहीं थी जिस पर हमला न हुआ हो। पीएम मोदी ने कैलाश विजयवर्गीय से फोन करके हालचाल जाना। कल हमले में कैलाश विजयवर्गीय को हाथ में चोट लगी थी। उनके हाथ में लिगामेंट फ्रैक्चर हो गया है। विजयवर्गीय ने गाड़ी का शीशा टूटने के बाद हमलावरों के पत्थरों को बचाव के लिए हाथ से रोका था। इस दौरा हाथ में चोट लग गई।