उप सभापति हरिवंश के बाद शरद पवार भी करेंगे अनशन, कहा- सांसदों का अधिकार छीनने की कोशिश

नई दिल्ली। राज्यसभा के उप सभापति हरिवंश नारायण सिंह ने घोषणा की है कि वह रविवार को सांसदों द्वारा किए गए बेलगाम व्यवहार के विरोध में एक दिन का अनशन करेंगे। यह बात उनके द्वारा धरने पर बैठे सांसदों को सुबह चाय परोसने के बाद सामने आई। इन सांसदों को कृषि विधेयकों के पारित होने के दौरान सदन में अनियंत्रित व्यवहार करने पर निलंबित कर दिया गया था।

उपसभापति ने सभापति को पत्र लिखकर कहा है कि लोकतंत्र के नाम पर सदन में हिंसक व्यवहार हुआ। उन्होंने कहा कि वह अपने कर्तव्यों का पालन करते हुए एक दिन का अनशन करेंगे। बता दें कि 8 निलंबित सांसद विरोध में पूरी रात संसद परिसर में धरने पर बैठे रहे। इन राज्यसभा सदस्यों को सोमवार को राज्यसभा के सभापति एम. वेंकैया नायडू ने सदन की बैठक शुरू होने के कुछ देर बाद ही निलंबित कर दिया था। ये सदस्य – डेरेक ओ ब्रायन, डोला सेन, राजीव सातव, रिपुन बोरा, सैयद नसीर हुसैन, संजय सिंह, के.के. रागेश, और ई.करीम हैं।

राज्यसभा के 8 सांसदों के निलंबन पर सियासत जारी है। दुर्व्यवहार का आरोप लगाते हुए उपसभापति हरिवंश आज एक दिन के उपवास पर हैं, तो वहीं सांसदों के समर्थन में राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (NCP) चीफ शरद पवार ने एक दिन के अनशन का ऐलान किया है।