आईयूएमएल ने नागरिकता विधेयक को सुप्रीम कोर्ट में दी चुनौती, कपिल सिब्बल लड़ेंगे केस

नयी दिल्ली। इंडियन यूनियन मुस्लिम लीग (आईयूएमएल) ने नागरिकता (संशोधन) विधेयक को बृहस्पतिवार को उच्चतम न्यायालय में चुनौती दी। इससे एक दिन पहले यह विधेयक राज्यसभा में पारित हो गया। इसमें पाकिस्तान, अफगानिस्तान और बांग्लादेश में धार्मिक उत्पीड़न से परेशान होकर भारत आए गैर मुस्लिम शरणार्थियों को नागरिकता देने का प्रावधान है। सुप्रीम कोर्ट में इंडियन यूनियन मुस्लिम लीग (IUML) का प्रतिनिधित्व वरिष्ठ अधिवक्ता कपिल सिब्बल करेंगे।

आईयूएमएल ने आरोप लगाया कि यह विधेयक संविधान के समानता के मौलिक अधिकार का उल्लंघन करता है। IUML ने अपनी याचिका में SC से नागरिकता संशोधन विधेयक 2019 को गैरकानूनी और शून्य घोषित करने का अनुरोध किया है। इस विधेयक को सोमवार को लोकसभा में पारित किया गया था।