खराब कानून व्यवस्था के लिए निशाने पर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री

राज्य उत्तर प्रदेश एक बार फिर से हर किसी की जबान पर छाया हुआ है। जहां राजनीतिक उठापटक के लिए इन दिनों कर्नाटक का जिक्र हर कोई कर रहा है ठीक उसी प्रकार खराब कानून व्यवस्था के लिए हर कोई उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री को निशाने पर ले रहा है। वहीं उत्तर प्रदेश हो रही आपराधिक घटनाएं कानून व्यवस्था की लगातार पोल खोलती हुई दिखाई दे रही हैं। हाल ही में हुई 2 घटनाओं में 2 पुलिसकर्मी समेत 11 लोगों की मौत हो गई।

 

सोनभद्र जिले में बेखौफ दबंगों ने जमीन विवाद को लेकर तीन महिलाओं सहित 9 लोगों की दिनदहाड़े गोली मारकर हत्या कर दी, वहीं 19 घायल बताए जा रहे हैं। यहां तक कहा जा रहा है कि मरने वालों की संख्या में इजाफा हो सकता है। जैसे ही इस घटना की जानकारी मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को मिली, वह तुरंत एक्शन में नजर आए। उन्होंने आदेश दिया कि इस घटनाक्रम में जख्मी हुए लोगों का जल्द से जल्द इलाज कराया जाए और पुलिस महानिदेशक को कहा कि आप यह सुनिश्चित करें कि आरोपियों के खिलाफ सख्त से सख्त कार्यवाही हो।

सप्ताह की शुरुआत हुई ही थी कि उत्तर प्रदेश के सम्भल जिले से दिल को कचोट देने वाला वाक्या सामने आता है। जहां पर 3 अपराधियों ने 2 पुलिसकर्मियों की हत्या कर फरार हो जाते है। सोचिए जब हमारी सुरक्षा करने वाले सुरक्षाकर्मी ही सुरक्षित नहीं हैं ऐसे में भला जनता का क्या होगा। मिली जानकारी के मुताबिक पुलिस वाले कुछ कैदियों को एक वैन में लादकर मुरादाबाद जा रहे थे कि तभी कुछ अज्ञात बदमाशों ने बनियाठेर इलाके पर हमला कर दिया जिसमें 2 पुलिसकर्मियों की मौत हो गई। घटनाक्रम में शामिल अज्ञात बदमाशों ने पुलिसकर्मियों की रायफल भी चुरा ली और 3 कैदियों को लेकर फरार हो गए।

ये तो थे जुलाई माह के तीसरे सप्ताह में घटे हुए मामले। लेकिन इन मामलों की एक तस्वीर और सामने आई है। आपको बता दें कि सम्भल जिले में हुए घटनाक्रम की जब छानबीन की गई तो एक वीडियो सामने आया। जिसमें साफ-साफ पता चल रहा है कि वैन की हालत खस्ता है। नाम न लिखे जाने की शर्त पर प्रत्यक्षदर्शी ने बताया कि पुलिस थाने से वैन को धक्का मारकर स्टार्ट किया गया था। प्राप्त वीडियो में भी यही देखने को मिला कि कुछ पुलिसकर्मी वैन को धक्का मारकर स्टार्ट कर रहे हैं।

एक तरफ तो मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रदेश की कानून व्यवस्था को दुरुस्त करने के लिए अधिकारियों के साथ बैठक की। लेकिन मौजूदा घटनाक्रमों को देखने के बाद तो हकीकत सभी के सामने आ ही गई और तो और वैज्ञानिकतौर पर हाईटेक हो रहे समाज में अपराधियों का पीछा क्या पुलिसकर्मी धक्का मारकर कर करेंगे। यह सवाल करना इस वक्त बेहद जरूरी समझा जा रहा है?

अज्ञात बदमाशों द्वारा सम्भल की घटना को अंजाम दिए जाने के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ काफी व्याकुल नजर आए और उन्होंने शहीद पुलिसकर्मियों के परिवारवालों को 50-50 लाख रुपए की आर्थिक सहायता देने की बात कही। साथ ही साथ शहीद पुलिसकर्मियों की पत्नी को असाधारण पेंशन और परिवार के किसी एक व्यक्ति को सरकारी नौकरी देने का भी आश्वासन दिया।

प्रदेश की कानून व्यवस्था को लेकर लगातार विपक्षी पार्टियां सरकार को निशाने पर लेते आईं हैं। इन घटनाक्रमों के अलावा फैजाबाद जिले में समाजवादी पार्टी के एक नेता की भी कथिततौर गोलियां मारकर हत्या कर दी गई। जिसके बाद सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने योगी सरकार को निशाने पर लिया और कहा कि राज्य में अपराधी अब बेखौफ हो गए हैं। इतना ही नहीं विधानसभा में बिगड़ती कानून व्यवस्था को लेकर विपक्ष ने जमकर हंगामा किया। हालांकि योगी ने विधानसभा में कहा कि सोनभद्र की घटना को लेकर एक जांच कमेटी का गठन किया जाएगा।