कलराज मिश्र बने हिमाचल के नए राज्यपाल, आचार्य देवव्रत को भेजा गुजरात

नई दिल्ली। बीजेपी के वरिष्ठ नेता कलराज मिश्र को हिमाचल प्रदेश का नया राज्यपाल नियुक्त किया गया है। पूर्व पीएम अटल बिहारी वाजपेयी और पीएम नरेंद्र मोदी के पहले कार्यकाल में मंत्री रहे कलराज को आचार्य देवव्रत की जगह हिमाचल का राज्यपाल बनाया गया है। देवव्रत को गुजरात का राज्यपाल बनाया गया है। यूपी के दिग्गज नेता कलराज को राज्यपाल बनाने की चर्चा काफी समय से चल रही थी।

कलराज नरेंद्र मोदी सरकार के 2014 से 19 के पहले कार्यकाल में सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्योग मंत्रालय का स्वतंत्र प्रभार सौंपा गया था। हालांकि, उन्होंने 75 वर्ष की उम्र पार करने पर 2017 में ही पद मंत्री पद छोड़ दिया था। इस दौरान उन्होंने संसद में उत्तर प्रदेश के देवरिया लोकसभा का प्रतिनिधित्व किया था। मिश्र ने 2019 का लोकसभा चुनाव नहीं लड़ा था।

 

उधर, आचार्य देवव्रत अब गुजरात के राज्यपाल ओम प्रकाश कोहली की जगह लेंगे। ओपी कोहली 16 जुलाई, 2014 को गुजरात के राज्यपाल बनाए गए थे जबकि आचार्य देवव्रत 12 अगस्त, 2015 से हिमाचल प्रदेश के राज्यपाल का पद संभाल रहे थे।

गौरतलब है कि भारत के संघीय ढांचे में राज्यपाल का पद संवैधानिक होता है। संविधान के भाग 6 में राज्य की शासन व्यवस्था का प्रावधान है। राष्ट्रपति केंद्र सरकार की सलाह पर राज्यों में राज्यपाल जबकि केंद्रशासित प्रदेशों में उप राज्यपाल की नियुक्ति करते हैं। किसी राज्य में गवर्नर की स्थिति वही होती है जो केंद्र में प्रेजिडेंट की। यानी, गवर्नर राज्य की कार्यपालिका के प्रमुख होते हैं। वे राज्य मंत्रिपरिषद की सलाह पर कार्य करते हैं। राज्यपाल राज्य के सभी विश्वविद्यालयों के पदेन कुलाधिपति भी होते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *