भारत आपदा प्रबंधन के क्षेत्र में बनेगा दुनिया में सर्वप्रथम और सर्वश्रेष्ठ: अमित शाह

गृह मंत्री अमित शाह ने SDRF, सिविल डिफेंस, होम गार्ड्स और फायर सर्विसेज की क्षमता निर्माण पर होने वाले वार्षिक सम्मेलन का उद्घाटन किया। उद्घाटन के बाद सभा को संबोधित करते हुए अमित शाह ने कहा कि हर क्षेत्र की तरह आपदा प्रबंधन के क्षेत्र के अंदर भी भारत दुनिया में सर्वप्रथम हो, सर्वश्रेष्ठ हो इस लक्ष्य को लेकर इस सम्मेलन की समाप्ति होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि इसमें कोई दो राय नहीं कि हम सभी जरूरतों को पूरा किया जाएगा। संसाधन भी मिलेंगे साधन भी मिलेंगे, भवन भी मिलेंगे। लेकिन आपदा प्रबंधन का काम भवन से नहीं होता भावना से होता है। जब तक भावना नहीं होगी तब तक इसका सही परिणाम नहीं आएगा।

शाह ने कहा कि एनडीए की सरकार में अटल बिहारी वाजपेयी ने राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन समिति का गठन किया था और शरद पवार जी को उसका अध्यक्ष बनाकर एक बहुत अच्छी शुरुआत की थी। साल 2000 के पहले हमारे देश में आपदा प्रबंधन क्षेत्र को पूरा नजअंदाज किया गया। जिला स्तर या सेना की टुकड़ियों का उपयोग करके इसकी चिंता की जाती थी, लेकिन समग्र दृष्टिकोण के साथ आपदा प्रबंधन को लेकर कदम नहीं उठाए जाते थे। भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि 2001 में गुजरात में भूंकप आया, तब के वहां के मुख्यमंत्री नरेन्द्र मोदी ने गुजरात आपदा प्रबंधन की नींव डाली। वहीं से देश में समग्रता से आपदा प्रबंधन पर काम होने की शुरुआत हुई थी।

 

अमित शाह ने काह कि एनडीआरएफ के गठन के बाद से लेकर आज तक कई आपदाओं में समय पर, न केवल भारत बल्कि कई अन्य देशों में भी एनडीआरएफ ने बहुत अच्छा काम किया है। मैं एक भारत के नागरिक के नाते भी एनडीआरएफ को बधाई देता हूं कि आपने बहुत अच्छा काम किया है। उन्होंने कहा कि आपदा प्रबंधन क्षेत्र की चुनौतियों को तभी हल कर सकते हैं जब सारे दल well equipped हों। वहां पर काम करने के लिए सारी सुविधाएं अंतरराष्ट्रीय मानकों से भी ऊपर हों। मेरा आग्रह है कि डीआरडीओ के साथ संकलन करके सारे इक्यूपमेंट स्वदेशी किए जाएं।