उप्र के प्रतापगढ़ में दलित किसान की जलाकर कथित हत्या अति-दुःखद और निन्दनीय हैं : मायावती

नयी दिल्ली। बहुजन समाज पार्टी (बसपा) की अध्यक्ष मायावती ने लोकसभा चुनाव के बाद उत्तर प्रदेश में दलितों और अल्पसंख्यकों पर हमले बढ़ने का आरोप लगाते हुए मंगलवार को कहा कि सरकार को इस पर ध्यान देना चाहिए। मायावती ने ट्वीट कर कहा, “उप्र के प्रतापगढ़ में दलित किसान की जलाकर कथित हत्या, डॉक्टरों की कल हड़ताल के दौरान लोहिया अस्पताल में उत्पात वास्तव में ज्यादती की उस श्रृंखला की ताजा कड़ी है जो लोकसभा चुनाव के बाद दलितों, पिछड़ों और अल्पसंख्यकों पर हो रहे हैं।” बसपा प्रमुख ने इसकी निंदा करते हुए कहा कि ये घटनाएँ अति-दुःखद और निन्दनीय हैं। उन्होंने सरकार से इस पर ध्यान देने की माँग की।

बंगाल सरकार झुकी व डाक्टरों की 1 दिन की आल इण्डिया हड़ताल कल शाम समाप्त हो गई, परन्तु इस दौरान दिल्ली व यूपी सहित देश भर में करोड़ों मरीजों का जो बुरा हाल हुआ व अनेकों मासूम जानें गई उन खबरों से आज के अखबार भरे पड़े हैं। लेकिन इन बेगुनाह जनता की परवाह सरकार व कोई और क्यों करे?

मायावती ने एक अन्य ट्वीट में पश्चिम बंगाल में डॉक्टरों की हड़ताल के बारे में कहा, “प. बंगाल सरकार झुकी और डॉक्टरों की एक दिन की अखिल भारतीय हड़ताल सोमवार की शाम को समाप्त हो गई। परन्तु इस दौरान दिल्ली और उत्तर प्रदेश सहित देश भर में करोड़ों मरीजों का जो बुरा हाल हुआ और अनेकों मासूम जानें गई, उनकीखबरों से आज के अखबार भरे पड़े हैं। लेकिन इन बेगुनाह लोगों की परवाह सरकार तथा कोई और क्यों करे?”