इंग्लिश टीम ने द. अफ्रीका को एकतरफा मैच में 104 रनों से दी करारी शिकस्त

नई दिल्ली, मेजबान इंग्लैंड उम्मीदों को नतीजों में बदलने के लिए वर्ल्ड कप-2019 में उतर चुका है. इंग्लिश टीम ने गुरुवार को दक्षिण अफ्रीका को एकतरफा मैच में 104 रनों से करारी शिकस्त देकर अपने अभियान का शाही आगाज किया. इस जीत के साथ ही इंग्लैंड ने जता दिया कि दूसरी टीमों के लिए इस बार उसके घर से वर्ल्ड कप ट्रॉफी ले जाना आसान नहीं है. इंग्लैंड में हलांकि यह खेल अब शीर्ष पर नहीं है, लेकिन 14 जुलाई को अगर कप्तान इयोन मॉर्गन लॉर्ड्स की बालकनी में खिताबी ट्रॉफी उठा लेते हैं, तो निश्चित तौर पर इस खेल की गिरती लोकप्रियता में इजाफा होगा.
बारबाडोस में पैदा हुए जोफ्रा आर्चर (3/27) ने वर्ल्ड कप के उद्घाटन मैच में अपनी शॉर्ट पिच गेंदों का बेहतरीन इस्तेमाल कर दक्षिण अफ्रीकी खेमे में दहशत फैला दी. दक्षिण अफ्रीका की तरफ से क्विंटन डि कॉक (74 गेंदों पर 68) और रोसी वान डर डुसेन (61 गेंदों पर 50) ने अर्धशतक जमाए. लेकिन अफ्रीकी टीम 312 रनों के लक्ष्य का पीछा करती हुई 39.5 ओवरों में 207 रनों पर ढेर हो गई. यह वर्ल्ड कप में दक्षिण अफ्रीका की दूसरी सबसे बड़ी हार है.
आर्चर ने अफ्रीका की कमर तोड़ी
अफ्रीकी बल्लेबाजों को आर्चर ने भरमाया. आर्चर की तेजी से उठती गेंद हाशिम अमला के हेलमेट से लगी और उन्हें मैदान छोड़ना पड़ा. और वहीं दक्षिण अफ्रीका की सारी रणनीति चरमरा गई. 24 साल के आर्चर ने इसके बाद एडेन मार्कराम (11) को अतिरिक्त उछाल वाली गेंद पर स्लिप में कैच कराया और फिर कप्तान फाफ डुप्लेसिस (5) को मैच की सबसे शॉर्ट पिच गेंद पर कैच देने के लिए मजबूर किया.

अमला ने 6 विकेट गिरने के बाद क्रीज पर कदम रखा, लेकिन उनका साथ देने के लिए पुछल्ले बल्लेबाज थे. स्टोक्स ने मिडविकेट पर एक हाथ से बेहतरीन कैच लेकर फेलुक्वायो (24) की पारी का अंत किया. स्टोक्स के इस करामाती कैच ने खूब सुर्खियां बटोरीं. लियाम प्लंकेट ने अमला (13) को आउट कर दक्षिण अफ्रीका की हार का अंतर कम करने की उम्मीदें भी पूरी नहीं होने दी.
इंग्लैंड ने पहले बल्लेबाजी का न्योता मिलने पर 8 विकेट पर 311 रन बनाए. जेसन रॉय (53 गेंदों पर 54 रन) और जो रूट (59 गेंदों पर 51 रन) ने दूसरे विकेट के लिए 106 रन जोड़कर इंग्लैंड को शुरुआती झटके से उबारा. इन दोनों के लगातार ओवरों में आउट होने के बाद इयोन मॉर्गन (60 गेंदों पर 57) और स्टोक्स (79 गेंदों पर 89) ने चौथे विकेट के लिए 106 रनों की साझेदारी की.

स्टोक्स ने गेंदबाजी में भी कमाल दिखाया और 12 रन देकर दो पुछल्ले बल्लेबाजों को पवेलियन भेजा. लियाम प्लंकेट ने भी 37 रन देकर दो विकेट चटकाए.
इंग्लैंड का रिकॉर्ड रहा बरकरार
इसके साथ ही मेजबान इंग्लैंड का वर्ल्ड कप के अपने पहले मैच में जीत का सिलसिला बरकरार रहा. उसने अब तक अपनी धरती पर सभी 5 वर्ल्ड कप में जीत से आगाज किया है.
1975 वर्ल्ड कप : इंग्लैंड ने लॉर्ड्स में भारत को 202 रनों से मात दी
1979 वर्ल्ड कप: इंग्लैंड ने लॉर्ड्स ऑस्ट्रेलिया को 6 विकेट से मात दी
1983 वर्ल्ड कप : इंग्लैंड ने ओवल में न्यूजीलैंड को 106 रनों से मात दी
1999 वर्ल्ड कप: इंग्लैंड ने लॉर्ड्स में श्रीलंका को 8 विकेट से मात दी
2019 वर्ल्ड कप: इंग्लैंड ने ओवल में साउथ अफ्रीका को 104 रनों से मात दी.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *