मालदीवः दो साल बाद पूर्व राष्ट्रपति नशीद की घर वापसी

कोलंबो। मालदीव के पूर्व राष्ट्रपति मोहम्मद नशीद गुरुवार को निर्वासन के बाद स्वदेश लौट आए हैं। सुप्रीम कोर्ट ने दो दिन पहले उनके अरेस्ट वॉरंट को खारिज कर दिया था। सुप्रीम कोर्ट ने फैसला सुनाया था कि जब तक आतंकवाद के खिलाफ उनकी जेल की सजा के खिलाफ अपील पर सुनवाई नहीं हो जाती, उन्हें हिरासत में नहीं लिया जा सकता है।

विवादास्पद आतंकवाद के आरोपों में 13 सालों तक जेल में रहे नशीद का नवनिर्वाचित राष्ट्रपति इब्राहिम मोहम्मद सोलिह ने माले स्थित एयरपोर्ट पर स्वागत किया। इस दौरान उनके सैंकड़ों समर्थक भी मौजूद थे। हालांकि, अभी यह तय नहीं है कि सोलिह के नेतृत्व वाली सरकार में उनकी क्या भूमिका होगी।

वह 2016 में निर्वासन में चले गए थे, तब से उनपर भगोड़े का ठप्पा लग गया था। राष्ट्रपति अब्दुल्ला यमीन के कार्यकाल में उनकी वापसी होने पर उनकी गिरफ्तारी का खतरा बना हुआ था जिन्होंने अपने अधिकांश विरोधियों को या तो जेल में बंद कर दिया था या फिर निर्वासन में।

हालांकि, पिछले महीने हुए राष्ट्रपति चुनाव में यामीन को हार का मुंह देखना पड़ा। वहीं, राष्ट्रपति चुने गए सोलिह नशीद के मालदिवियन डेमोक्रैटिक पार्टी (एमडीपी) के उम्मीदवार थे। नशीद को यामीन के खिलाफ चुनाव लड़ने की उम्मीद थी लेकिन चुनाव आयोग ने उनपर प्रतिबंध लगा दिया था।