असम्मानजनक तरीके से लौटने के लिए मुशर्रफ को किया जा सकता है बाध्य : कोर्ट

इस्लामाबाद। पाकिस्तान के चीफ जस्टिस सादिक निसार ने पूर्व तानाशाह परवेज मुशर्रफ के पाकिस्तान नहीं लौटने और उनके खिलाफ चल रहे मामलों का सामना करने में विफल रहने को लेकर नाराजगी जताई। इसके साथ ही उन्होंने चेतावनी दी कि यदि ‘साहसी कमांडो’ जल्द उपस्थित नहीं होते हैं तो उन्हें असम्मानजनक तरीके से लौटने के लिए बाध्य किया जा सकता है। डॉन की रिपोर्ट के अनुसार, कोर्ट ने यह टिप्पणी उस समय की जब मुशर्रफ के वकील ने तीन सदस्यीय पीठ से कहा कि उनके मुवक्किल कोर्ट का सम्मान करते हैं, लेकिन सुरक्षा के प्रावधान तथा अपनी तबियत के कारण वापस लौटने में असमर्थ हैं। मुशर्रफ (75) 2016 से दुबई में रह रहे हैं। 2007 में संविधान को स्थगित करने के कारण उनके खिलाफ देशद्रोह का मामला चल रहा है।

पूर्व सैन्य शासक इलाज के लिए मार्च 2016 में दुबई गए थे और तब से वापस नहीं लौटे हैं। उनके वकील ने अदालत से कहा कि लाल मस्जिद कार्रवाई मामले में पूर्व राष्ट्रपति के खिलाफ कोई आरोप नहीं है।(भाषा)