सृजन घोटाला मामला : चचेरी बहन रेखा मोदी के आवास में CBI छापे के बाद चारों ओर से घिरे सुशील मोदी बोले, दस साल से नहीं मिले हैं 

By संचारटाइम्स न्यूज नेटवर्क | Publish Date: Sep 7 2018

पटना। बिहार के चर्चित सृजन घोटाले में चचेरी बहन का नाम आने के बाद चारों ओर से घिरे डेप्युटी सीएम सुशील कुमार मोदी ने उन्हें दूर का रिश्तेदार बताया है। सुशील मोदी ने कहा कि रेखा उनकी दूर की चचेरी बहन हैं और वह उनसे 10 साल से नहीं मिले है। गुरुवार को आयकर विभाग की टीम ने पटना में सुशील मोदी की बहन रेखा मोदी के आवास में छापेमारी की लेकिन अभी तक यह पता नहीं चल सका है कि छापे में जांच टीम को क्या-क्या मिला।

इसके बाद सुशील मोदी ने अपने ट्विटर हैंडल से ट्वीट किया, ‘रेखा मोदी मेरी दूर की चचेरी बहन हैं। मेरा उनके साथ व्यापारिक या फिर वित्तीय संबंध नहीं है। वह अपने भाई के साथ कई आपराधिक मामलों में शामिल रही हैं। इस केस में उन्होंने मेरा नाम भी घसीटा है जबकि मैं उनसे पिछले 10 साल से नहीं मिला हूं।’

सृजन एनजीओ की स्थापना मनोरमा देवी ने की थी। उनकी मौत के बाद उनके बेटे और उनकी पत्नी इस एनजीओ को चला रहे थे। रिपोर्ट्स के मुताबिक, राज्य सरकार और जिला प्रशासन के बैंक खातों में रखे सरकारी धन को एनजीओ सृजन और उसके कर्मचारियों के बैंक अकाउंट्स में ट्रांसफर किया गया था। कई सरकारी विभागों की रकम सीधे विभागीय खातों में न जाकर या वहां से निकालकर सृजन महिला विकास सहयोग समिति नाम के एनजीओ के 6 खातों में ट्रांसफर कर दी जाती थी।

आरजेडी का आक्रामक रुख
सीबीआई ने पिछले साल अगस्त में एफआईआर दर्ज कर मामले की जांच शुरू की थी। इस मुद्दे को लेकर आरजेडी शुरू से आक्रामक रही है। राज्य के पूर्व डेप्युटी सीएम तेजस्वी यादव इस साल जून में आरोप लगा चुके हैं कि सुशील मोदी की बहन रेखा मोदी और उनकी भतीजी उर्वशी घोटाले में शामिल हैं।