अटल कलश यात्राः श्रद्धांजलि के लिए महिलाएं, बुजुर्ग, युवा, मंत्री और नेता यात्रा में चल रहे हैं पैदल 

लखनऊ। ‘अटल बिहारी अमर रहे’ और ‘वंदे मातरम’ के गगनभेदी नारों के बीच भारत रत्न व पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की अस्थि कलश यात्रा निकली। कलश यात्रा में लोगों का सैलाब उमड़ पड़ा है। महिलाएं, बुजुर्ग, युवा, मंत्री और नेता यात्रा में पैदल चल रहे हैं। नगर निगम के बाहर क्रेन से कलश यात्रा पर फूल की वर्षा गई।
इससे पहले लखनऊ से कई बार सांसद रह चुके दिवंगत पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की अस्थियां भारी बारिश के बीच विशेष विमान से लखनऊ पहुंच गईं। अमौसी एयरपोर्ट पर मुख्यमंत्री योगी और उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्या ने अस्थि कलश रिसीव किया। उनके साथ अटल जी की पुत्री नमिता समेत अन्य परिजन भी मौजूद रहे। अमौसी एयरपोर्ट पर ही राज्यपाल रामनाईक और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अटल जी को श्रद्धांजलि दी। इसके बाद यहां से रथ में अस्थि कलश को विराजित कर यात्रा निकाली गई है। अस्थि कलश यात्रा भाजपा कार्यालय से झूलेलाल वाटिका तक 3.5 किलोमीटर जाएगी। इस यात्रा में सीएम योगी समेत पूरी कैबिनेट पैदल चलेगी।
प्रदेश प्रवक्ता हीरो वाजपेयी ने बताया कि अस्थियां विसर्जन से पहले गोमती नदी के तट पर स्थित झूलेलाल पार्क में सर्वदलीय श्रद्घांजलि सभा का आयोजन रखा गया है। सभा में सभी दलों के नेता और पदाधिकारी अटलजी को श्रद्घासुमन अर्पित करेंगे। उसके बाद अस्थियां गोमती नदी में विसर्जित की जाएगी।

प्रदेश मीडिया प्रभारी मनीष दीक्षित ने बताया कि 24 अगस्त को सरकार के मंत्री और भाजपा के प्रदेश पदाधिकारी अस्थि कलश लेकर 16 जगहों के लिए निकलेंगे। प्रदेश की प्रमुख नदियों में भी 24 और 25 नवंबर को अस्थियां विसर्जित की जाएंगी।

ऐसे में लखनऊ के डीएम ने सभी स्कूलों से अपील की है कि वो 12वीं तक छुट्टी करें या 11 बजे तक छात्रों को घर भेज दें। डीएम कौशल राज शर्मा ने बताया कि अस्थियां एयरपोर्ट से पुरानी कानपुर रोड होते हुए चारबाग, हुसैनगंज होते हुए झूलेलाल पार्क पहुंचाई जाएंगी। अस्थियों के दर्शन करने बड़ी संख्या में लोग वाहनों के अलावा पैदल झूलेलाल पार्क तक पहुंचेंगे। ऐसे में छात्रों को असुविधा न हो इसके लिए जिला विद्यालय निरीक्षक और बेसिक शिक्षा अधिकारी को निर्देश दे दिए गए हैं।