मेरे कॅरियर में कोई बदलाव नहीं हुआ है और मैं न्यायपालिका का बहुत शुक्रगुजार हूं : राजपाल

नई दिल्ली। अभिनेता राजपाल यादव का कहना है कि अपनी पत्नी के साथ अदालत जाते समय उन्हें वास्तव में बहुत बुरा लगता था। पांच करोड़ रुपये का ऋण नहीं चुकाने के कारण उन्हें छह महीने कारावास की सजा सुनाई गई। उन्होंने स्वीकार किया कि उन्होंने गलतियां की हैं, लेकिन जानबूझ कर नहीं कीं। अदालती मामलों से उनके कॅरियर पर प्रभाव पर राजपाल ने बताया, ‘‘मेरे कॅरियर में कोई बदलाव नहीं हुआ है और मैं न्यायपालिका का बहुत शुक्रगुजार हूं।’ उन्होंने कहा, ‘‘यह सिर्फ कुछ रुपयों की बात नहीं थी क्योंकि मैं कोई पागल नहीं हूं, यह सिर्फ इसलिए था क्योंकि मैं इस मुद्दे को अदालती प्रक्रिया से सुलझाना चाहता था।’

उन्होंने कहा, ‘‘मैं अपने संविधान और देश का बहुत सम्मान करता हूं। और हां, 2019 में मेरी बहुत अच्छी फिल्में आएंगी।’ एक उद्योगपति को ऋण न चुकाने के बाद उनके सात चेक बाउंस होने के बाद दिल्ली की एक अदालत ने उन्हें छह महीने जेल की सजा सुनाई थी। बाद में उन्हें जमानत मिल गई थी।‘‘जंगल’, ‘‘प्यार तूने क्या किया’, ‘‘वक्त : रेस अगेंस्ट टाइम’, ‘‘जुड़वा’ जैसी बॉलीवुड फिल्मों और ‘‘भोपाल – ए प्रेयर ऑफ रेन’ से हॉलीवुड में पदार्पण करने वाले राजपाल का कहना है कि अपने साथियों और प्रशंसकों से मिले प्यार से वे खुश हैं। उन्होंने कहा, ‘‘मैं यहां एक गांव से एक अच्छा अभिनेता बनने आया था और किस्मत से मुझे फिल्मोद्योग और दर्शकों से बहुत प्यार मिला और मेरे लिए ये सच्ची संतुष्टि है।’ उन्होंने कई अग्रणी फिल्मों में भी काम किया और अपने अभिनय कौशल से प्रभावित किया लेकिन मुख्य किरदार की भूमिका न निभाने के प्रश्न पर उन्होंने कहा, ‘‘यह निर्भर करता है कि एक कलाकार कैसे एक विशेष किरदार चुनता है। कोई भी कलाकार अच्छी पटकथा तलाशता है, उसे हमेशा अच्छी भूमिकाएं मिलेंगी। मेरी समझ में यही आया है और इसीलिए मैं पटकथा पर ध्यान देता हूं और इसके लिए मैं ईर का धन्यवाद देता हूं।’ (आईएएनएस)