बीएसपी प्रदेश अध्यक्ष की अगुवाई में छह दिन `टीम माया` वेस्ट यूपी में रहेगी

मेरठ। चुनावी तैयारी में जी जान से जुटे भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह के वेस्ट यूपी को साधने के लिए मेरठ दौरे से पहले मायावती के सिपहसलार वेस्ट में हुंकार भरने सोमवार को उतर गए हैं। बीएसपी प्रदेश अध्यक्ष की अगुवाई में छह दिन `टीम माया` वेस्ट यूपी में रहेगी। उनकी कोशिश है कि बीजेपी की रणनीति की काट को केंद्र और प्रदेश की सरकार की जनविरोधी नीतियों और बीजेपी के बहकावे में नहीं आने के लिए जनता को जागरूक करने की है। प्रदेश अध्यक्ष दो दिन सहारनपुर रहेंगे। दूसरा मंडलीय सम्मेलन अब मेरठ से कैंसल कर 25-26 जुलाई को गौतमबुद्धनगर करेंगे। 27 -28 को मुरादाबाद मंडल में चुनावी तैयारियों को परखेंगे। इस बीच बीएसपी के मंडलीय सम्मेलन में मायावती की तरफ से की गई कार्रवाई का खौफ साफ दिखा। जानकार मान रहे हैं कि बीएसपी नेताओं पर माया का ऐक्शन करना चुनाव से पहले स्वाति सिंह सरीखे विवाद से बचने की रणनीति का हिस्सा है।

बीजेपी की प्रदेश कार्य़कारिणी की बैठक 11 और 12 अगस्त को मेरठ में होगी। जिसमें लोकसभा चुनाव 2019 के लिए सूबे में पार्टी को 2014 सरीखी फतह दिलाने के लिए रोडमैप तैयार किया जाएगा। कमजोर आंके जा रहे एमपी और विरोधी दलों के संभावित उम्मीदवारों के मुकाबले किए जाने वाले कंडीडेट के नाम में बदलाव पर चर्चा होगी। हमारा बूथ मजबूत बूथ, पन्ना प्रमुख, बूथ टीम, विस्तारकों की रणनीति पर गहन मंथन होने की उम्मीद हैं। बीजेपी की इस मीटिंग से पहले बीएसपी अपने वोटबैंक में सेंध लगने से रोककर उन्हें साधने के लिए वेस्ट में हुंकार भरने उतर गई हैं।

बीएसपी के प्रदेश अध्यक्ष आरएस कुशवाह ने अपनी टीम के साथ पार्टी प्रमुख मायावती का संदेश लेकर सोमवार को वेस्ट यूपी में दस्तक दी। पहले दिन सोमवार को सहारनपुर मंडल में संगठन से जुड़े वर्करों से मिले। सारे दिन चुनावी तैयारियों को परखने में व्यस्त रहे। उन्होंने मंडल के जिम्मेदारों लोगों से अलग से मिलकर चुनावी चर्चा की। बीएसपी और बीजेपी के बारे में उनकी राय जानी। बीएसपी को कामयाबी कैसे मिले इस पर मंथन किया। मंगलवार को सर्वसमाज के लोगों के साथ दिनभर फतह 2019 की रणनीति पर मंथन करेंगे।

उन्होंने बताया कि इस बार बहनजी को पीएम बनाने के लिए माहौल अनुकूल है, इसलिए जी जान से काम करें। ज्यादा वोट बनवाएं और ज्यादा वोटिंग कराने का काम कराएं। सहारनपुर के बाद 25 और 26 जुलाई को गौतमबुद्धनगर में दो दिन मेरठ मंडल की चुनावी तैयारियों की परख प्रदेश अध्यक्ष करेंगे। बीजेपी की केंद्र और प्रदेश सरकार की जनविरोधी नीतियों के बारे में जानकारी देकर जनता तक पहुंचाने का टारगेट सौपेंगे। 27 और 28 जुलाई को मुरादाबाद में प्रदेश अध्यक्ष मौजूद रहकर वेस्ट यूपी में कामयाबी के लिए प्रमुख लोगों से मशवरा करेंगे।

बीएसपी के प्रदेशाध्यक्ष आरएस कुशवाह की मेरठ मंडल की समीक्षा का प्रोग्राम मेरठ में तय था। इसके लिए 25 और 26 जुलाई की तिथि तय भी कर दी गई हैं। लेकिन अब इसको कैंसिल कर गौतमबुद्धनगर में कर दिया गया हैं। 29 जुलाई की मेरठ की बैठक पहले की निरस्त कर दी गई। उससे पहले हर मंडलीय समीक्षा मेरठ में होती थी। दो अप्रैल के बाद भी दो मंडलीय बैठकें गौतमबुद्धनगर और जोन की शामली में की जा चुकी हैं। बताया जा रहा है कि दो अप्रैल की आरक्षण को लेकर हुई हिंसा में दलितों पर की गई कार्ऱवाई के बाद पार्टी विवाद से बचने से लिए मेरठ में बड़े प्रोग्राम नहीं कर रही हैं।