भारत डब्ल्यूटीसी के तहत दो टेस्ट मैचों की सीरीज के लिए कैरेबियाई देशों का दौरा करेगा

भारत पहले वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप की शुरुआती सीरीज के लिए वेस्टइंडीज का दौरा करेगा. आईसीसी ने 2018 से 2023 तक के लिए भविष्य का दौरा कार्यक्रम (FTP) जारी करके इसकी घोषणा की.
आईसीसी ने अपने बयान में कहा कि भारत डब्ल्यूटीसी के तहत दो टेस्ट मैचों की सीरीज के लिए कैरेबियाई देशों का दौरा करेगा. कुल मिलाकर चोटी की नौ टीमें वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप में भाग लेंगी. यह चैंपियनशिप 15 जुलाई 2019 से 30 अप्रैल 2021 तक चलेगी.
वेस्टइंडीज के खिलाफ सीरीज वर्ल्ड कप 2019 के तुरंत बाद शुरू हो जाएगी. इस दौरे में भारतीय टीम तीन वनडे और इतने ही टी-20 मैच भी खेलेगी. भारत इस साल के आखिर में तीन टेस्ट, पांच वनडे और तीन वनडे के लिए वेस्टइंडीज की मेजबानी करेगा.
वर्ल्ड चैंपियनशिप में भारत का दूसरा प्रतिद्वंद्वी दक्षिण अफ्रीका होगा जिसकी वह तीन टेस्ट मैचों के लिए मेजबानी करेगा. यह घरेलू सीरीज अक्टूबर 2019 में होगी जिसके बाद बांग्लादेश के खिलाफ एक और सीरीज खेली जाएगी. बांग्लादेश दो टेस्ट मैच और तीन टी-20 अंतरराष्ट्रीय खेलने के लिए भारत का दौरा करेगा.
भारत की वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप में अगली दो सीरीज न्यूजीलैंड (दो टेस्ट) और ऑस्ट्रेलिया (चार टेस्ट) के खिलाफ होंगी जबकि इसके बाद वह पांच टेस्ट मैचों के लिए इंग्लैंड की मेजबानी करेगा.
भारी पड़ रहा है यो-यो टेस्ट, पहले होता तो नहीं खेल पाते ये दिग्गज
उम्मीद के मुताबिक भारत और पाकिस्तान वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप की कोई सीरीज नहीं रखी गई है, लेकिन फिर भी वे फाइनल में भिड़ सकते हैं. कुल मिलाकर भारत वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप के तहत 18 टेस्ट मैच खेलेगा तथा इनमें से 12 मैच ऑस्ट्रेलिया , दक्षिण अफ्रीका और इंग्लैंड के खिलाफ होंगे.
वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप के अलावा टेस्ट खेलने वाले 12 देश और नीदरलैंड 13 टीमों की वनडे लीग में भी भाग लेंगे जो एक मई 2020 से 31 मार्च 2022 तक खेली जाएगी तथा सभी टीमें दो साल के अंदर आपसी सहमति से चुने गए प्रतिद्वंद्वियों के खिलाफ स्वदेश और विदेश के आधार पर आठ सीरीज खेलेंगे.
सीक्रेट मिशन पर धोनी, इंग्लैंड टूर से पहले ऐसे कर रहे हैं अभ्यास
भारत वनडे लीग की अपनी पहली सीरीज के लिए जून 2020 में श्रीलंका का दौरा करेगा. यह लीग 2023 वर्ल्ड कप के लिए क्वालिफायर का काम करेगी.
मेजबान भारत और 31 मार्च 2022 तक वनडे लीग में शीर्ष सात स्थानों पर रहने वाली टीमें वर्ल्ड कप 2023 के लिए सीधे क्वालिफाई करेंगी जबकि आखिरी पांच स्थानों पर रहने वाली टीमों के लिए आईसीसी वर्ल्ड कप क्वालिफायर के जरिए दूसरा मौका मिलेगा.