ईद के मौके पर भी पाकिस्तान और कश्मीर के पत्थरबाज नहीं आए अपनी नापाक हरकतों से बाज

श्रीनगर. ईद के मुबारक मौके पर भी पाकिस्तान और कश्मीर के पत्थरबाज अपनी नापाक हरकतों से बाज नहीं आए. जम्मू कश्मीर के नौशेरा सेक्टर में पाकिस्तान ने ईद के पाक मौके पर सीमा पार से जमकर गोलीबारी की. इस गोलीबारी में विकास गुरुंग नाम के सेना के जवान शहीद हो गए.
वहीं, शनिवार की सुबह पत्थरबाजों ने जम्मू कश्मीर में अनंतनाग में ईद की नमाज के बाद सुरक्षाबलों पर हमला कर दिया. अनंतनाग में झड़प के दौरान शिराज अहमद नाम का एक शख्स जख्मी हो गया है. जानकारी के मुताबिक, शिराज ग्रेनेड से हमला करने वाला था तभी ग्रेनेड उसके हाथ में ही फट गया. इससे उसका एक हाथ पूरी तरीके से खत्म हो गया और वह गंभीर रूप से घायल है.
ईद की नमाज के बाद पत्थरबाजीपत्थरबाजों के हमले में कई महिलाएं और स्थानीय लोग फंस गए. पत्थरबाजी की इस घटना के बाद घाटी में ईद के मुबारक मौके पर भी तनाव का माहौल है. हालात को देखते हुए प्रशासन ने श्रीनगर इलाके में सुरक्षा के कड़े बंदोबस्त किए हैं. दरअसल, शनिवार की सुबह अनंतनाग में सभी एक दूसरे को ईद की बधाई दे रहे थे, तभी पत्थरबाजों ने खुशनुमा माहौल को खूनखराबे में तब्दील कर दिया. यहां ईद की नमाज खत्म होते ही घाटी के पत्थरबाज सुरक्षाबलों पर टूट पड़े. जवाब में सुरक्षाबलों को भी फायरिंग करनी पड़ी. जिसके तहत उन्हें आंसू गैस के गोले दागने पड़े.ईद पर पाक की गोलीबारी में एक जवान शहीद
वहीं, पाकिस्तान ने भी ईद के मुबारक मौके पर अपनी नापाक हरकत दिखाई है. शनिवार की सुबह चार बजे पाकिस्तान ने नौशेरा के लाम इलाके में सीजफायर का उल्लंघन किया और सीमा पार से जमकर गोलीबारी की. सेना ने भी पाकिस्तान की गोलीबारी का मुंहतोड़ जवाब दिया. हालांकि, इस गोलीबारी में सेना का एक जवान शहीद हो गया.

इधर, बीएसएफ ने जम्मू कश्मीर के सांबा सेक्टर में कार्रवाई करते हुए दो संदिग्ध पाकिस्तानियों को गिरफ्तार किया है, इसमें एक की उम्र 22 वर्ष और दूसरे की उम्र 31 वर्ष बताई जा रही है. बता दें कि दो दिनों से पूरा कश्मीर मातम में डूबा है. राइजिंग कश्मीर के संपादक शुजात बुखारी की हत्या और फिर सेना के जवान औरंगजेब को अगवा कर की गई उनकी हत्या के बाद पूरा कश्मीर इन दोनों की शहादत पर खून के आंसू रो रहा है. शनिवार को सेना के शहीद जवान औरंगजेब को सुपुर्द-ए-खाक किया जाएगा. आतंकवादियों ने औरंगजेब को अगवा कर बेरहमी से हत्या कर दी थी.

पाकिस्तान और आतंकियों की नापाक करतूत का गुस्सा लोगों के साथ-साथ सुरक्षाबलों में देखने को मिला. जम्मू कश्मीर में लोगों ने बीजेपी-पीडीपी सरकार को नाकाम बताया है. वहां के स्थानीय लोगों ने कहा कि आर्मी के हाथों में कमान होती तो दहशतगर्दों को सही सबक मिलता. वहीं, वाघा बॉर्डर और जैसलमेर में पाक बॉर्डर पर भी मिठाई बांटने की परंपरा टूटती नजर आई.
वाघा बॉर्डर पर ईद के इस मुबारक मौके पर बीएसएफ ने हर साल की तरह इस बार त्योहार की खुशी को नहीं बांटा और न ही मिठाई की अदला-बदली हुई. बीएसएफ के अधिकारियों ने कहा कि मौजूदा हालात को देखते हुए हमने मिठाई की अदला-बदली न करने का फैसला लिया है. बता दें कि प्रत्येक वर्ष बॉर्डर इलाके में भारत की तरफ से पाकिस्तानी जवानों को मिठाई दी जाती थी और वहां से भी भारत के जवानों को मिठाई दी जाती थी.