शहीद औरंगजेब के पिता ने कहा, सरकार आतंकियों को मारकर बेटे की शहादत का बदला ले वरना वह खुद बदला लेंगे

पुंछ. राष्ट्रीय राइफल्स के शहीद जवान औरंगजेब का पार्थिव शरीर जब उनके गांव पहुंचा तो लोगों की भारी भीड़ उमड़ पड़ी। लोगों ने जवान को नम आंखों से सलाम भी किया। लोगों की आंखों में जहां जवान को खोने का गम था वहीं रमजान के महीने में किए गए इस जघन्य अपराध के लिए गुस्सा भी था। बता दें कि गुरुवार शाम सेना के जवान औरंगजेब का शव पुलवामा के गूसो इलाके में पाया गया था।

इस बीच औरंगजेब के पिता मोहम्मद हनीफ ने कहा है कि उनका एक बेटा शहीद हो गया, लेकिन बड़ा बेटा फौज में है। उन्होंने कहा कि हम सब कुर्बान हो जाएंगे। आतंकियों ने उस वक्त औरंगजेब का अपहरण किया, जब वह ईद की छुट्टी लेकर अपने घर पुंछ लौट रहे थे। औरंगजेब उस कमांडो ग्रुप का हिस्सा थे, जिसने हिज्बुल कमांडर समीर टाइगर को मार गिराया था। औरंगजेब की हत्या से उनके गांव के साथ ही देश भर में काफी उबाल है।

उनके पिता मोहम्मद हनीफ केंद्र सरकार को अल्टिमेटम देते हुए कह चुके हैं कि मोदी सरकार आतंकियों को मारकर बेटे की शहादत का बदला ले वरना वह खुद बदला लेंगे। साथ ही उन्होंने यह भी कहा है कि वह अपने दूसरे बेटों को भी सेना में भेजेंगे। औरंगजेब के पिता मोहम्मद हनीफ खुद भी सेना में रह चुके हैं। घटना के बाद से उनके गांव में सन्नाटा है। आतंकियों ने न सिर्फ बेरहमी से उनकी हत्या की बल्कि पहले औरंगजेब की तस्वीर भी सोशल मीडिया पर डाली। कहा जा रहा है कि यह तस्वीर उन्हें मारने से पहले ली गई थी।

 

ईद के दिन भी हिंसा की घटनाएं कम नहीं हुईं। सीमा पर पाकिस्तान ने सीजफायर का उल्लंघन किया और एक भारतीय जवान शहीद हो गया। रविवार को नौशेरा सेक्टर में जवान बिकास गुरुंग पाक फायरिंग में शहीद हुए हैं। अरनिया सेक्टर में भी संघर्षविराम का उल्लंघन किया गया। माना जा रहा है कि केंद्र सरकार ईद के बाद सीजफायर पर कोई बड़ा ऐलान कर सकती है।