तमाम कवायदों के बावजूद राजधानी में खतरनाक डेंगू के लार्वा का प्रजनन की बढ़ती जा रही है रफ्तार

नई दिल्ली। तमाम कवायदों के बावजूद राजधानी में खतरनाक डेंगू के लार्वा का प्रजनन की रफ्तार बढ़ती जा रही है। इस बीच इस माह डेंगू के तीन मामले और सामने आए हैं। इसके साथ ही इस मौसम में मच्छर जनित बीमारी से प्रभावित लोगों की संख्या 15 हो गई है।

नगर निगम की ओर से हाल ही में जारी रिपोर्ट से यह जानकारी मिली है। राष्ट्रीय राजधानी में 26 मई तक मलेरिया के 14 मामले सामने आए हैं, जिनमें से 10 इसी महीने के हैं। रिपोर्ट के अनुसार डेंगू के 15 मामलों में से छह जनवरी में, तीन फरवरी में , एक मार्च में, दो अप्रैल में और तीन इस महीने मिले हैं। विषाणु वाहक मच्छरों से जनित इन बीमारियों के मामले मुख्य रूप से मध्य जुलाई से नवंबर अंत तक सामने आते हैं लेकिन इस बार यह समय मध्य दिसंबर तक बढ़ सकता है। इस विषाणु वाहक बीमारी का कोई मामला 13 जनवरी तक सामने नहीं आया था। इस रिपोर्ट में बताया गया है कि मच्छरों के प्रजनन की जांच करने वाले जांचकर्ताओं ने पाया कि 26 मई तक दिल्ली के 19,205 घरों में मच्छर पनप रहे थे। रिपोर्ट के अनुसार मच्छरों के पनपने की वजह से 24,084 कानूनी नोटिस दिए गए हैं और 1,730 मामलों में अभियोजन शुरू किए गए हैं।

दक्षिणी दिल्ली नगर निगम (एसडीएमसी) के आयुक्त पीके गोयल ने पिछले महीने दिल्ली में मच्छरों से होने वाली बीमारियों के बचाव एवं रोकथाम के लिए परामर्श जारी किए थे। उधर, इंडियन हार्ट फाउंडेशन के अध्यक्ष आरएन कालरा की देखरेख में डेंगू जागरूकता रैली निकाली गई। यह रैली रमेश नगर से कीर्ति नगर तक निकाली गई। इसमें बच्चों ने भाग लिया।