ट्रंप-किम शिखर वार्ता की उम्मीदें फिर जगीं

वा¨शगटन। अमेरिका राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने शुक्रवार को संकेत दिये कि उत्तर कोरियाई नेता किम जांग उन के साथ उनकी शिखर वार्ता अब भी 12 जून को हो सकती है। ट्रंप ने बृहस्पतिवार इस वार्ता को रद्द कर दिया था। ट्रंप ने कहा कि उनका प्रशासन उत्तर कोरियाई अधिकारियों से इस संबंध में बातचीत कर रहा है। ट्रंप ने व्हाइट हाउस में कहा, ‘‘हम देखते हैं कि क्या होता है। हम अब उनसे बात कर रहे हैं।’ उन्होंने कहा , ‘‘उनकी इसकी (बातचीत) बहुत इच्छा है। हम भी इसे करना चाहते हैं। हम देखेंगे कि क्या होता है।’

ट्रंप सिंगापुर में 12 जून को रद्द हो चुकी बातचीत को लेकर आशावादी नजर आए। एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा, ‘‘यह 12 जून को भी हो सकती है।’ राष्ट्रपति ने कहा, ‘‘हम देखेंगे कि क्या होता है।’ इससे एक दिन पहले , ट्रंप ने किम को लिखे पत्र में सिंगापुर में 12 जून को प्रस्तावित बातचीत को रद्द करने की घोषणा की थी। उन्होंने प्योंगयांग के ‘‘अत्यंत गुस्से’ को अपने फैसले का कारण बताया। उधर, उत्तर कोरिया ने एक बयान में शिखर वार्ता रद्द होने पर अफसोस जताया था और कहा था कि वह किसी भी समय वार्ता के लिए इच्छुक है। ट्रंप ने इसे बहुत अच्छी खबर बताया था। वार्ता पर उत्तर कोरिया की सकारात्मक प्रतिक्रिया का ट्रंप ने स्वागत किया। इस नाटकीय फैसले के लिये प्योंगयोंग के ‘‘बेहद नाराजगी भरे और भड़काउ’ रवैये को जिम्मेदार ठहराया गया। ट्रंप का यह फैसला उत्तर कोरिया द्वारा अपने परमाणु परीक्षण स्थल को नष्ट किये जाने के कुछ घंटों बाद आया है।

ट्रंप के पत्र पर प्रतिक्रिया देते हुये उत्तर कोरिया ने आज कहा कि यद्यपि राष्ट्रपति ने शिखर वार्ता को रद्द कर दिया है लेकिन वह अब भी बातचीत के लिए इच्छुक है। उत्तर कोरिया के प्रथम उप विदेश मंत्री किम के ग्वान ने एक बयान में कहा, ‘‘वार्ता को रद्द किये जाने की अचानक हुई घोषणा की हमें उम्मीद नहीं थी और हम इसे बेहद खेदजनक पाते हैं।’ सरकारी केसीएनए समाचार एजेंसी ने किम को उद्धृत करते हुए कहा, ‘‘हमनें अमेरिका को किसी भी समय और कहीं भी आमने-सामने बैठकर इस समस्या के समाधान की अपनी इच्छा से एक बार फिर अवगत करा दिया है।’ ट्रंप ने उत्तर कोरिया के बयान पर अपनी पहली प्रतिक्रिया में इसका स्वागत किया है। ट्रंप ने ट्वीट कर कहा, ‘‘उत्तर कोरिया से गर्मजोशी और सार्थक बयान मिलना काफी अच्छी खबर है।’ उन्होंने एक दूसरे ट्वीट में कहा, ‘‘हम जल्द देखेंगे कि यह कहां लेकर जाएगा, उम्मीद है कि दीर्घकालिक समृद्धि और शांति की तरफ। सिर्फ समय बताएगा।’ (भाषा)