कोलकाता मेट्रो में गले लगाने पर एक कपल को पीटने का मामला सामने आया है

कोलकाता. कोलकाता मेट्रो में गले लगाने पर एक कपल को पीटने का मामला सामने आया है. कोलकाता के दमदम मेट्रो स्टेशन पर कपल के साथ मारपीट की गई. पत्रिका के एक जर्नलिस्ट ने इस घटना को लेकर एक लेख लिखा है.
घटना के वक्‍त वहां मौजूद शख्‍स ने इस पूरे मामले की जानकारी दी है. चश्मदीद उज्जवल चक्रवती ने न्यूज पेपर में लिखा- युवा लड़के और लड़की की पहले एक पैसेंजर के साथ बहस हुई. कुछ देर बाद कई और लोग कपल के खिलाफ बोलने लगे. वे उन पर चिल्ला रहे थे.
कपल को चलती मेट्रो में धमकी दी गई कि दमदम स्टेशन उतरो, पिटाई होगी. जैसी ही दमदम स्टेशन आया, कुछ लोगों ने लड़के को ट्रेन से नीचे खींच लिया. उस पर लात-घूंसे बरसाने लगे. इस दौरान लड़की बीच बचाव में आई, पर कोई नहीं माना. लड़की भी चोटिल हुई. पिटाई की तस्‍वीर भी सामने आई है.लोग कपल को ताने मार रहे थे, पार्क स्ट्रीट के पब में क्यों नहीं जाते? कमरे लेकर क्यों नहीं मिलते?
इस घटना को लेकर सोशल मीडिया पर कई हस्तियां पोस्ट कर रही हैं. लेख‍िका तसलीमा नसरीन ने भी इस मामले में ट्व‍िट किया है.
उम्रदराज शख्स से हुई थी बहस
शख्‍स के अनुसार एक बूढ़ा व्‍यक्‍ति कपल द्वारा मेट्रो में गले लगाने से नाराज था और इस वजह से बहस की शुरुआत हुई. यह बहस और बढ़ गई जब कुछ और लोग उस बूढ़े व्‍यक्‍त‍ि के साथ मिलकर कपल के साथ धक्‍का मुक्‍की और जोरदार बहस करने लगे.
प्रत्‍यक्षदर्शी उज्‍ज्‍वल चक्रवर्ती के अनुसार कपल से कहा गया कि वे पार्क स्‍ट्रीट के पब में क्‍यों नहीं मिलते या फ‍िर किसी होटल में कमरा लेकर क्‍यों नहीं गले लगाते ? शुरुआत में ऐसे कई सवालों के साथ कपल के साथ बुरा व्‍यवहार किया गया.
शख्‍स के अनुसार, उन लोगों ने युवा कपल को दमदम स्‍टेशन पर देख लेने की धमकी भी दी. दमदम स्‍टेशन पर मेट्रो पहुंचने पर ग्रुप ने युवक को बाहर ख‍िंच लिया और उसके साथ मारपीट करने लगे. वहीं युवक को बचाने के लिए आई युवती के साथ भी भीड़ ने आपत्‍तिजनक व्‍यवहार किया और ताबड़तोड़ लात व घूंसे बरसाए. वहां मौजूद ज्‍यादातर लोगों ने भीड़ ने को रोका नहीं, बल्कि इनके साथ बुरी तरह मारपीट की.
हालांकि बाद में कुछ लोगों ने कपल को भीड़ से बचाया और स्थ‍िति काफी बिगड़ने से पहले उस कपल को वहां से निकाला. इस मामले को सोशल मीडिया में लोग काफी गुस्‍से में हैं और आरोपी लोगों के खि‍लाफ एक्‍शन लेने की मांग कर रहे हैं.

वहीं इंडिया टुडे द्वारा इस मामले पर कोलकाता पुलिस से जानकारी मांगने पर कॉल को मेट्रो रेलवे के सीपीआरओ ट्रांसफर दिया गया. CPRO ने बताया कि इस मामले के संबंध में कोई भी पुलिस रिपोर्ट नहीं दर्ज हुई है. हालांकि वे मामले की जांच कर रहे हैं.