कर्नाटक में दूसरी चुनावी रैली : पीएम मोदी ने कांग्रेस अध्‍यक्ष राहुल गांधी पर जोरदार हमला किया

उडुपी। कर्नाटक में दूसरी रैली के दौरान उडुपी में सभा को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा, आप सबों का उमंग और उत्साह इस बात का प्रमाण है कि इस बार कर्नाटक की जनता ने कांग्रेस को सजा देने का मन बना लिया है। बता दें कि कर्नाटक चुनाव की तारीख का एलान होने के बाद मंगलवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने पहले कर्नाटक दौरे की शुरुआत की है।

पीएम ने कर्नाटक की जनता से वादा करते हुए कहा, राज्‍य के चहुंमुखी विकास को सुनिश्‍चित करने के साथ हमारी सरकार कर्नाटक के लोगों की आकांक्षाओं को पूरा करने के लिए किसी रास्‍ते को नहीं छोड़ेगी। इससे पहले मैसूर में चुनावी अभियान के तहत एक सभा को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कांग्रेस अध्‍यक्ष राहुल गांधी पर जोरदार हमला किया।

पीएम ने आगे कहा, देश में 40 फीसद जनसंख्या आजादी के इतने वर्षो बाद भी बैंकिंग व्यवस्था से बाहर थी, हमने उन्हें जनधन योजना के माध्यम से बैंकिंग व्यवस्था से जोड़ा। हमने कहा था की जीरो बैलेंस अकाउंट खोलेंगे लेकिन मेरे देश के गरीबों की अमीरी देखिये इन्होने 80,000 करोड़ रुपये बैंक में जमा करके अपने बचत खाते खोलें हैं।

चामराजनगर में आयोजित पहली चुनावी रैली में पीएम ने राहुल गांधी को चुनौती दी और कहा कि बगैर किसी कागज या रिपोर्ट को पढ़े कर्नाटक में अपनी सरकार की उपलब्‍धियों को 15 मिनट में गिनाएं। आप हिंदी में, अंग्रेजी में या अपनी मातृभाषा में बोल सकते हैं। इसके अलावा पीएम ने कहा, ‘राहुल मुझे 15 मिनट में पांच बार विश्‍वेश्‍वरैया बोल कर दिखाएं।’

 

मोदी ने कहा, ‘लोकतंत्र में हम नेता और नागरिकों की बातों को गंभीरता से लिया जाता है। राहुल ने कहा था कि अगर मैं संसद में 15 मिनट भी बोलूंगा तो मोदी जी बैठ नहीं पाएंगे। वे 15 मिनट बोलेंगे, ये भी एक बड़ी बात है और मैं बैठ नहीं पाऊंगा, सुनकर मुझे अच्छा सीन याद आता है। हां, आप सही हैं, आप ‘नामदार’ हैं, आपके आगे बैठने की क्षमता हम ‘कामदारों’ में नहीं।’ उन्‍होंने आगे कहा, कांग्रेस नेताओं का कोई प्रिंसिपल नहीं, राहुल गांधी कुछ करते नहीं है केवल बातें बनाते हैं।

पीएम मोदी ने सभा को संबोधित करते हुए कहा, हमसे डॉ. मनमोहन सिंह प्रधानमंत्री थे, उन्‍होंने 2005 में कहा था कि यूपीए सरकार देश के हर गांव बिजली ले आएगी। हमने देखा है डॉ मनमोहन के प्रति कांग्रेस का अनादर। सभा के बीच में वे मनमोहन जी के फैसले को फाड़ देते थे। राहुल को संबोधित करते हुए पीएम ने कहा, मनमोहन जी की बात नहीं मानते हो, कम से कम माता जी की बात तो मानो।‘ सोनिया जी ने कहा था कि 2009 तक हर घर में बिजली पहुंचाएंगे, लेकिन 2014 तक आप बैठे रहे।

 

रैली के दौरान पीएम ने कहा, ‘ऐसी खबरें मिल रहीं थीं कि कर्नाटक में भाजपा की हवा चल रही है, लेकिन आज देखकर लग रहा है कि ये हवा नहीं आंधी चल रही है। हम कर्नाटक में बदलाव की बयार को बेकार नहीं जाने देंगे।’ मजदूर दिवस का उल्‍लेख करते हुए पीएम मोदी ने कहा, आज 1 मई को गुजरात और कर्नाटक का स्थापना दिवस है। आज के दिन को मजदूर दिवस भी मनाया जाता है। मैं कारीगर और मजदूर भाइयों को आज का दिन समर्पित करना चाहता हूं।

कांग्रेस पर परिवारवाद का आरोप लगाते हुए पीएम ने कहा, कर्नाटक में 2+1 फार्मूला लागू है। यह कर्नाटक में परिवारवाद की राजनीति का वर्जन है। वे हार से डरते हैं इसलिए सीट बदल रहे हैं। और अपनी पुरानी सीट पर अपने बेटे को भेज दिया है। कभी कभी जागने वाले और ज्‍यादातर सोनेवाले यहां के सीएम का ये राजनीतिक खोज है। इसपर सिद्दारमैया ने ट्वीट कर पीएम से सवाल किया कि दो संसदीय सीटों- वाराणसी और वडोदरा से चुनाव लड़ने के पीछे का कारण डर था? उन दो सीटों को भूल जाइए। इस बात की चिंता करिए की आपकी पार्टी 60-70 सीटें पार नहीं कर पाएंगी।

 

पीएम मोदी ने सभा को संबोधित करते हुए आगे कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष नामदार हैं, उनसे काम की उम्‍मीद नहीं। जो लोग हमें अपशब्‍द कहते हैं, उन्हें सोचना चाहिए कि आजादी के बाद से उन घरों में बिजली क्‍यों नहीं पहुंची। हमने इसका बीड़ा उठाया है, हम बिजली लाएंगे। आज कांग्रेस का नेतृत्‍व उन हाथों में है जिन्हें वंदे मातरम और देश के गौरव पता नहीं है। कांग्रेस अध्यक्ष को देश का ज्ञान नहीं है।

बता दें कि कर्नाटक की 224 विधानसभा सीटों के लिए एक चरण में 12 मई को वोटिंग होगी। 15 मई को नतीजे आएंगे।