हमारे कहने से किसी का अपमान होता है तो हम माफी मांग लेंगे : सिसोदिया

नई दिल्ली. मानहानि मुकदमों पर एक के बाद एक सामने आ रहे अरविंद केजरीवाल के माफीनामों ने आम आदमी पार्टी की मुश्किलें बढ़ा दी हैं. दिल्ली विधानसभा में बजट सत्र के दूसरे दिन पार्टी के बड़े नेता सवालों में घिर गए. दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने सीएम केजरीवाल के लगातार माफी मांगने पर अपना पक्ष रखते हुए कहा कि हमारे कहने से किसी का अपमान होता है तो माफी मांग लेंगे.
पंजाब के 10 विधायकों की नाराजगी दूर करने के अगले ही दिन नितिन गडकरी और कपिल सिब्बल से केजरीवाल की माफी पर मनीष सिसोदिया ने सफाई देते हुए कहा कि सत्ता में जनता के काम करने आए हैं ना कि कोर्ट कचहरी के लिए. उन्होंने कहा कि हम लोग ईगो की लड़ाई लड़ने नहीं आए हैं, स्कूल बनवाने आए हैं. हमारे कहने से किसी का अपमान होता है तो हम माफी मांग लेंगे . हम जनता के लिए काम कर रहे हैं. हम कोर्ट कचहरी के लिए टाइम नहीं रखेंगे, हम जनता के बीच काम करेंगे.
उधर दिल्ली के संयोजक गोपाल राय ने माफीनामे के सवाल पर केंद्र सरकार पर निशाना साधते हुए अरविंद केजरीवाल का बचाव किया. गोपाल राय ने कहा कि एक षड्यंत्र के तहत सीएम के काम को बाधित करने का खेल हो रहा है और इसलिए हम दिल्ली के काम को प्राथमिकता देते हुए इस मिशन को आगे बढ़ा रहे हैं.
गोपाल राय का आरोप है कि आम आदमी पार्टी को एलजी और केंद्र सरकार की तरफ से कोर्ट कचहरी के मुकदमों में फंसाकर चारों तरफ से घेराबंदी की जा रही है ताकि सरकार के कामकाज को पैरालाइज किया जा सके. गोपाल राय का कहना है कि आम आदमी पार्टी इस तरह के मुकदमे से मुक्त होगी और अपने काम पर फोकस करेगी.